आंखों देखेंअपराध राष्ट्रीय समाचार पत्र का मालिक नाम मनोज पवार स्वामी मुद्रक प्रकाशक संपादक मनोज पवार मुजफ्फरनगर उत्तर प्रदेश भारत आवास विकास 469 से संपर्क मोबाइल नंबर 99 27 97 39 0 7 दूसरा नंबर 82 79 40 56 86  से मुजफ्फरनगर से प्रकाशित समाचार पत्र 20/10/ मैं शुरू किया था

आंखों देखेंअपराध राष्ट्रीय समाचार पत्र का मालिक नाम मनोज पवार स्वामी मुद्रक प्रकाशक संपादक मनोज पवार मुजफ्फरनगर उत्तर प्रदेश भारत आवास विकास 469 से संपर्क मोबाइल नंबर 99 27 97 39 0 7 दूसरा नंबर 82 79 40 56 86  से मुजफ्फरनगर से प्रकाशित समाचार पत्र 20/10/ मैं शुरू किया था वह इसलिए कि समाज की कुछ सहयोग भी हो जाए और अपने मन की समाज के प्रति जो सही बात है वह शासन प्रशासन तक पहुंचाई जाए परंतु जैसे तैसे अब तक चल रहा था 1 दिन हमें गूगल नवलेखा से तिवारी जी का फोन आया उन्होंने नवलेखा के विषय में हमें बताया और हमें अच्छी तरह से समझाया क्योंकि हम ज्यादा पढ़े लिखे नहीं हैं इसलिए मोबाइल या कंप्यूटर की जानकारी नहीं थी परंतु तिवारी जी ने इस तरीके से समझाया और एक वेबसाइट आंखों देखे अपराध के नाम से तैयार करके हमें दी जो बिल्कुल फ्री उसमें कोई पैसा नहीं लगाना पड़ा और सबसे बड़ी बात यह रही कि तिवारी जी को हमने रात के 1:00 बजे भी अगर फोन किया तो उन्होंने फोन उठाया और हमें अच्छे से समझाया बार बार पूछने पर भी वह कभी भी उक्त आते नहीं थी और हमें बिल्कुल एक गुरु की भांति सिखा रहे थे आज मैं खुद मनोज पवार संपादक आंखों देखेअपराध अच्छी तरह से अपनी ख़बरें नवलेखा पर डाल रहा हूं जिससे हमारे पाठक भी बढ़ते जा रहे हैं और बडा सरल और आसान लग रहा है अब परंतु यह सब संभव हुआ नवलेखा से जुड़े मान्यवर तिवारी जी की वजह से वह आज भी हमें समय-समय पर चेत आते रहते हैं और हमारा हौसला बढ़ाते रहते हैं जिसके कारण हम और उत्साह के साथ नवलेखा के साथ जुड़े हैं तिवारी जी का बहुत-बहुत धन्यवाद जिनके कारण हमें गूगल नवलेखा रूपी एक बड़ा प्लेट फार्म मीला अब इस बैनर पर हम उत्साह के साथ आगे बढ़ रहे हैं एक बार फिर गूगल नवलेखा और तिवारी जी का बहुत-बहुत धन्यवाद और पूरे नवलेखा परिवार को ढेर सारा प्यार और नमस्कार और श्री परमात्मा से प्रार्थना करते हैं कि यह नवलेखा परिवार आगे से आगे बढ़ता चला जाए हरि ओम तत्सत