दारुल उलूम मरकज को मजहबी रंग देना कहना ठीक नहीं है जब समझदार आदमी ऐसी हरकत करता है तो क्या किया जाए इतनी बड़ी गलती के बाद भी दारू लम उनकी पीठ ठोकने के लिए पीछे खड़ा हो गया है क्या यह ठीक है जब पूरा देश एक साथ है तो कुछ चंद लोग इस तरीके की हरकत क्यों कर रहे हैं जो पूरे देश के लिए नुकसानदेह हो जाए मान्यवर ध्यान से सोचो यह किसी 1 कौम का मामला नहीं है पूरा देश ही इसके चपेट में आ सकता है अगर ऐसे लोग नादानी करते रहे तो


Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
13 दिसंबर स्वामी विद्यानंद गिरी महाराज की पुण्यतिथि प्रवर्तन योद्धा मोहन जोशी के जन्मदिन पर विशेष महावीर संगल जी
Image
राष्ट्रीय लोक शिकायत जांच आयोग के वाइस चेयरमैन बने उपेंद्र चौधरी
Image
अकबर महान पढा पर एक सच्चाई जो छुपाई गई देखें इस लेख में पवन सिंह तरार
Image
सावधान देश को अन देने वाला किसान सम्मान देने वाला पहलवान दोनों की आंखों में आंसू गैरों पे करम अपनों पर सितम
Image