कोरोनावायरस के बचपन को भारत ने खेलने कूदने का मौका नहीं दिया और वह धीमे-धीमे अपने जीवन को बढ़ाता हुआ जवानी में प्रवेश कर गया है जिसका मतलब है बच्चे के बचपन से जवानी की ऊर्जा 10 गुना  अधिक होती है तो बचपन में कोरोनावायरस 2000/2200 को जीवन की हानि पहुंचा पाया है परंतु अब

कोरोनावायरस के बचपन को भारत ने खेलने कूदने का मौका नहीं दिया और वह धीमे-धीमे अपने जीवन को बढ़ाता हुआ जवानी में प्रवेश कर गया है जिसका मतलब है बच्चे के बचपन से जवानी की ऊर्जा 10 गुना  अधिक होती है तो बचपन में कोरोनावायरस 2000/2200 को जीवन की हानि पहुंचा पाया है परंतु अब वह जवानी में प्रवेश कर गया है और 10 गुना पावरफुल हो चुका है देखो अब वह रफ्तार पकड़ता है तो 10 गुना पर जाकर आंकड़ा रुकेगा देखो क्या करता है कुदरत और कोरोना  की जवानी भारत में कितनी सफल होती है जनता का जीवन का नुकसान करने में अगर जवानी में जय आंकड़ा 20000 पार कर गया तो फिर समझ लो कि निश्चित रूप में कोरोनावायरस अपना बुढ़ापा भारत में ही पूरा करके मरेगा  जो जवानी से भी 10 गुना होगा क्रम सह  10 गुना बचपन से जवानी 10 गुनी जवानी से बुढ़ापा 10 गुना अगर ऐसा हुआ तो देश में कम से कम 20 से 22 लाख लोगों को लील सकता है कोरोनावायरस विज्ञान बहुत बड़ी चीज है मैं वैज्ञानिक नहीं हूं उन लोगों का तो अनुमान अद्भुत होता है परंतु मैं अपनी भावना के अनुसार जितना समझ रहा  हु व्यक्तिगत रूप से उतना समझ कर लिख रहा हूं भारत ईशको अगर 20000 पर ना समेट पाया तो 20 लाख तक पहुंचने से भारत में कोरोनावायरस को कोई भी नहीं रोक पाएगा


Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
भ्रष्टाचार के विरुद्ध दुनिया का सबसे लंबा धरना मास्टर विजय सिंह महान युवा अब बूढ़ा हो चला थक गई आंखें इंतजार करते क्या कभी यह इंतजार खत्म होगा कोई ईमानदार शासक आएगा इस महान चेतन पर दृष्टिपात करेगा
Image
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
कैराना कलस्यन खाप भवन भाजपा गांव चलो अभियान की समीक्षा करते स्थानीय नेता एवं कार्यकर्ता
Image
कर्मशील भारतीके नाटक क्रांति सूर्य ज्योतिराव फुले पर नंदलेश ने की परिचर्चा गोष्ठी
Image