क्या कभी गरीबों का भी कुछ अच्छा हो सकता है या फिर इस भारत में सदा गरीब राजनीति का शिकार ही होता रहेगा

भारत एक विविधताओं का देश है जहां पर अनेक धर्मों के लोग एक साथ बड़े सामंजस्य के साथ रहते हैं परंतु गरीबी के कारण कुछ चंद लोग जहां अपनी रोटी सेकने में लगे रहते हैं इससे गरीब और गरीब होता चला जाता है क्या गरीब की दशा कभी यहां सुधर पाएगी ऐसा लग नहीं रहा है फिर भी आज नहीं छोड़नी चाहिए


Popular posts
शामली पुलिस अधीक्षक की उप निरीक्षक तबादला एक्सप्रेस दर्जनों दरोगा इधर से उधर मेहरबान खान
Image
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
शामली भाजपा नेता अरविंद संगल को कोर्ट ने भेजा जेल मेहरबान खान
Image
संजीव बालियान के भाई राहुल कुटबी का निधन 4 दिन में दो भाइयों की मौत
Image
शामली छेड़खानी जातिसूचक धारा में जेल में बंद अरविंद संगल को वादिया के उपस्थित ना होने पर कोर्ट से जमानत भक्तों में जश्न
Image