किसी ने पूछा क्या लोट आएंगे वह दिन जहां जीवन में हर दिन मेले लगा करते थे हम कह रहे हैं हां लोट आएंगे कुछ समय ठहरो और खुद को बदलो फिर वही होगा यह जिंदगी के मेले दुनिया में कम ना होंगे अफसोस हम ना होंगे हम भी होंगे और तुम भी होंगे शायद किसी और रूप में होंगे


Popular posts
संविदा व ठेके पर नगर पालिका में सफाई कर्मियों को परमानेंट कराने हेतु मुख्यमंत्री के नाम डीएम को ज्ञापन अरविंद झंझोट
Image
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
महर्षि बाल्मीकि पर आप नेता ने की अभद्र टिप्पणी बाल्मीकि समाज में रोष अरविंद झंझोट
Image
सफाई कर्मचारियों को नियमित कराने के लिए मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन
Image
बागपत पुलिस पीड़ित पिता का थप्पड़ से स्वागत प्रभारी लाइन हाजिर
Image