इटावा में मर्तक मिले योगेश चौहान हेड कांस्टेबल की हत्या उसी कि साथी महिला कांस्टेबल मंदाकिनी ने अपनी दो सगी बहनों के सहयोग से की थी एसएसपी तोमर ने केस का खुलासा करते हुए इस पेचीदा केस को खोलने वाली टीम को 25000 का इनाम दिया

हाल ही में अयोध्या में तैनात एक सिपाही का शव इटावा जिले में मिला था। जिसके बाद से पुलिस टीमें इसकी जांच में लग गईं थी। अब इटावा पुलिस ने ये खुलासा किया है कि थाना रामजन्मभूमि में तैनात महिला सिपाही ही कांस्टेबल के हत्या की मास्टरमाइंड निकली। महिला सिपाही मंदाकिनी ने अपनी दो सगी बहनों व दो अन्य लोगों के साथ मिलकर सिपाही योगेश चौहान की हत्या की थी। इटावा पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया है। *ये है मामला*: वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर ने बताया कि आठ अक्टूबर को थाना लवेदी क्षेत्रान्तर्गत मानिकपुर से भादौपुर वाले रास्ते पर दादौरा नहर के पास एक अज्ञात शव बरामद किया गया था जिसकी पहचान थाना राम जन्मभूमि जिला अयोध्या में तैनात आरक्षी योगेश चौहान के तौर पर की गई थी। मृतक मथुरा का निवासी था। उसके भाई ने नौ अक्टूबर को गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। उन्होंने बताया कि घटना के अनावरण के लिए क्षेत्राधिकारी भरथना के नेतृत्व में एसओजी इटावा व थाना लवेदी से दो टीमों का गठन किया गया था। गठित टीमों ने विभिन्न इलैक्ट्राॅनिक व मैनुअल साक्ष्यों को एकत्रित करते हुए कार्रवाई प्रारम्भ की गई थी। जिसमें कुल छह आरोपियों के घटना में संलिप्त होना पाया गया था। घटना कारित करने वाले 3 सगी बहनों सहित कुल 5 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। *इसलिए की गई हत्या*: आरोपियों ने बताया कि मृतक सिपाही योगेश तथा मुख्य हत्यारोपी मंदाकिनी उर्फ संगीता थाना रामजन्मभूमि में आरक्षी पद पर तैनात थे। महिला आरक्षी योगेश से शादी करना चाहती थी जिसके लिए योगेश ने मना कर दिया गया था। मंदाकिनी ने इसकी जानकारी मथुरा में तैनात अपनी बड़ी बहन हेड कांस्टेबल मीना देवी और गांव में रह रही बड़ी बहन ममता को दी। मीना तथा ममता ने योगेश को कई बार फोन पर शादी के लिए राजी करने का प्रयास किया लेकिन उन्हें निराशा हाथ लगी। योजनाबृद्ध तरीके से 7 अक्टूबर को योगेश व मंदाकिनी दोनों ही अवकाश लेकर अयोध्या से एक साथ रवाना हुए तथा बस के माध्यम से इटावा बस स्टैण्ड पहुंचे। इसी दौरान मीना अपने साथियों के साथ मथुरा से स्विफ्ट कार से इटावा आई एवं हत्यारोपी ममता भी गांव से इटावा आई तथा मृतक को सवारी के बहाने अपनी कार में बिठा लिया और मानिकपुर मोड की ओर ले जाते समय हत्या कर दी। इस हत्याकांड का खुलासा करने वाली पुलिस टीम ने बड़े ही मेहनत और लगन के साथ जांच की थी। जिसके चलते एसएसपी आकाश तोमर ने टीम को 25,000 का इनाम देने की घोषणा की है।


Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
क्योंकि पूरी दुनिया में कारपेट बिछाने से अच्छा है कि हम अपने पैरों में ही जूता पहन लें..