भारत बायोटेक एक और सफलता के करीब नेजल वैक्सीन ट्रायल की मांगी इजाजत देवेंद्र चौहान

 M भारत एक और बढ़ा नई सफलता की इबारत लिखने, बायोटेक ने तैयार की कोरोना की नेज़ल वैक्सीन



कोरोना वायरस से लड़ने के लिए भारत ने एक और कदम आगे बढ़ा दिया है. भारत बायोटेक ने कोरोना को मात देने के लिए नेजल वैक्सीन तैयार की है. यानी इस वैक्सीन को नाक के जरिए दिया जाएगा. कंपनी अब देश भर में इस वैक्सीन का ट्रायल करने जा रही है. इसके लिए ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया से इजाजत मांगी गई है. बता दें कि भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को शर्तों के साथ इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूदी दी गई है.


अगर ट्रायल में नेजल वैक्सीन के अच्छे नतीजे आते हैं तो फिर कोरोना के खिलाफ साल भर से जारी जंग में इसे बड़ी कामयाबी मानी जाएगी. बता दें कि दुनिया भर में फिलहाल कोई ऐसी वैक्सीन नहीं है. इस वक्त कोरोना को लेकर जो भी वैक्सीन तैयार की गई है उन सबकी डोज़ इंजेक्शन के जरिए दी जाती है. इसके अलावा दो हफ्तों के अंतराल पर 2 डोज़ दिए जा रहे हैं. लेकिन नेजल वैक्सीन नाक की जरिए दी जाएगी. साथ ही इसके लिए सिर्फ एक डोज ही काफी होगी. कहा जा रहा है ये आम वैक्सीन के मुकाबले ज़्यादा असरदार है. इसलिए इसे गेमचेंजर माना जा रहा है.


भारत बायोटक ने अमेरिका में वाशिंगटन यूनिवर्सिटी के साथ मिलकर नेजल वैक्सीन तैयार किया है. भारत बायोटेक के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक कृष्णा एला ने कहा है कि ये भारतीय वैक्सीन बनाने की क्षमताओं में क्रांति लाएगा और यूरोप, अमेरिका और चीन के साथ देश आगे निकलने में मदद करेगा. रिसर्च में पता चला है कि इस तरह नाक के जरिए वैक्सीन दिया जाना ज्यादा प्रभावी होगा. दरअसल नाक से ही अधिकतर वायरस जाने की संभावना रहती है, साथ ही यहां से वैक्सीन मिलने पर ऊपरी-निचले लंग पर असर होता है, जो असरदार साबित होगा.