सहारनपुर बहेट दुख का पहाड़ चार जनाजे उठे एक साथ मेहरबान खान

 एक साथ उठे 4 ज़नाज़े, हज़ारों लोगों ने नम आंखों से किया सुपुर्दे ख़ाक



बेहट(सहारनपुर)

कोतवाली बेहट इलाके के गांव बाबैल बुजुर्ग में स्कॉर्पियो कार व बाइक की टक्कर में माँ व दो बेटों की दर्दनाक मौत हो गई थी। जैसे ही तीनो के शव घर पहुंचे


 तो सदमे में मृतकों की दादी 70 वर्षीय अकबरी की भी मौत हो गई। जैसे ही 4 ज़नाज़े एक साथ उठे तो हर किसी की आंखे नम हो गई। सुबह 10 बजे गांव में 4 जनाज़ों की नमाज अदा करने के बाद उन्हें गांव के ही कब्रिस्तान में सुपूर्द ख़ाक किया गया


। ज़नाज़े में हज़ारों लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। पूर्व एमएलसी उमर अली खान, भाजपा नेता साहब सिंह पुंडीर, आम आदमी पार्टी नेता योगेश दहिया, कांग्रेस विधायक नरेश सैनी के भाई सहित हज़ारों लोगो ने ज़नाज़े में शिरकत की। इस दौरान काफी संख्या में पुलिस फोर्स भी मौजूद रहा।

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
भ्रष्टाचार के विरुद्ध दुनिया का सबसे लंबा धरना मास्टर विजय सिंह महान युवा अब बूढ़ा हो चला थक गई आंखें इंतजार करते क्या कभी यह इंतजार खत्म होगा कोई ईमानदार शासक आएगा इस महान चेतन पर दृष्टिपात करेगा
Image
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
कैराना कलस्यन खाप भवन भाजपा गांव चलो अभियान की समीक्षा करते स्थानीय नेता एवं कार्यकर्ता
Image
कर्मशील भारतीके नाटक क्रांति सूर्य ज्योतिराव फुले पर नंदलेश ने की परिचर्चा गोष्ठी
Image