आज का विचार आत्म नदी गहरी भई सुख दुख दो किनारे रूपी स्वभाव

 आत्म नदी गहरी भई सुख-दुख दो  स्वभाव


 पुण्य पाप दो किनारे फसी जिसमें खुद को भूलत जात द्वंद बीच साईं बसे  उसको ढूंढत नाए जैसे नट रस्सी पर जब चलता है जब वह अदाएं बाय रूपी दोनों द्वंद से स्थिरता को प्राप्त होता है जैसे प्रकाश और अंधकार रूपी द्वंद को मध्य में खड़ा खुद जीव दोनों को जानता है प्रकाश रूपी पुण्य अंधकार रूपी पाप के चक्कर में खुद जो है जो इन दोनों को देख रहा है जिस खुदी को सूर्य प्रकाशित नहीं कर सकता और अंधकार गायब नहीं कर सकता परंतु मैं इन दोनों का जानने वाला होने पर भी मेरी दृष्टि कभी अपने पर नहीं जाती अधंकार और प्रकाश रूपी द्वंद मे  ही जीवन गवा देता है वह आत्मा तो द्वंद रूपी दो चादरो से अपने को ढाफं कर बैठा है कोई विरला ही भूत और भविष्य रूपी द्वंद के मध्य वर्तमान रूप से उसको पकड़ पाता है हरि ओम तत्सत

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
13 दिसंबर स्वामी विद्यानंद गिरी महाराज की पुण्यतिथि प्रवर्तन योद्धा मोहन जोशी के जन्मदिन पर विशेष महावीर संगल जी
Image
अकबर महान पढा पर एक सच्चाई जो छुपाई गई देखें इस लेख में पवन सिंह तरार
Image
इस लड़की का नाम अमृता कुमारी और पिता का नाम ब्रह्मा प्रसाद है कुशीनगर के पास जंगल चौरी गांव की रहने वाली है कोई लड़का बहका कर सिवान लेकर चला गया
Image
दिल्ली पुलिस पूर्वी जिला एटीएस का चोरों पर कसते शिकंजे से जनता को राहत
Image