रिजर्व कोटे से चौथी रैंक प्राप्त कर आईएएस बनी श्रेया त्यागी मेहरबान खान

 श्रेया त्यागी ने आईएएस बन किया गांव का नाम रोशन



मुज़फ्फरनगर

जनवाणी संवाददाता,मंसूरपुर:क्षेत्र के पुरा गांव की बिटिया श्रेया त्यागी ने आईएएस बन अपने गांव के साथ जनपद का नाम रोशन किया है।गांव में पहुंचने पर ग्रामीणों ने भारी उत्साह के साथ फूल मालाओं से श्रेया त्यागी का स्वागत किया और कहा कि हमें अपनी बिटिया पर नाज है।

चार जनवरी को यूपीएससी का रिजल्ट घोषित होने के बाद गांव पुरा निवासी श्रेया त्यागी पुत्री सुधीर त्यागी रिजर्व लिस्ट से चौथी रैंक प्राप्त कर आईएएस बनी है।श्रेया त्यागी ने अपनी संपूर्ण पढ़ाई दिल्ली से की है।हाल ही में यूपीएससी की तैयारी कर तीसरी बार में परीक्षा पास कर आईएएस का पद प्राप्त किया है।श्रेया त्यागी के पिता सुधीर कुमार त्यागी गुड़गांव की एसबीआई बैंक शाखा में जनरल मैनेजर के पद पर तैनात हैं,जबकि माता बीनू त्यागी ग्रहणी हैं। श्रेया त्यागी को कोई भाई नहीं है एक बड़ी बहन आस्था त्यागी जर्मनी से पीएचडी कर रही है।श्रेया त्यागी के पिता सुधीर त्यागी तीन भाई हैं।बड़ा भाई सतीश त्यागी उर्फ पप्पू गांव में खेती बाड़ी का काम करते हैं,वही तीसरा भाई सुनील त्यागी दिल्ली में अध्यापक है।श्रेया त्यागी के आईएएस बनने का समाचार जब ग्रामीणों को लगा तो ग्रामीणों में खुशी की लहर दौड़ गई,और एक दूसरे को मिठाइयां खिलाकर खुशी का इजहार किया।रविवार शाम अपने माता पिता के साथ श्रेया त्यागी दिल्ली से गांव पहुंची तो ग्रामीणों ने फूल मालाओं से गांव की बिटिया का स्वागत किया और कहा कि हमें इस बेटी पर गर्व है,इसने अपने गांव के साथ-साथ जनपद का भी नाम रोशन किया है।करीब 95 वर्षीय श्रेया त्यागी के दादा बाल किशोर त्यागी ने भी अपनी पोत्री का फूल मालाओं से स्वागत किया वही श्रेया त्यागी ने सभी बुजुर्गों से आशीर्वाद लिया।श्रेया त्यागी ने अपनी इस बड़ी उपलब्धि का श्रेय अपने माता पिता तथा गुरुजनों को दिया है।

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
क्योंकि पूरी दुनिया में कारपेट बिछाने से अच्छा है कि हम अपने पैरों में ही जूता पहन लें..