ब्रह्मकुमारी के मुखिया दादी हिरदे मोहनी हमारे बीच नहीं रही शरीर हुआ पूरा शिवकुमार

 ब्रह्माकुमारीज़ की मुखिया 93 वर्षीय दादी हृदयमोहिनी का देहावसान


- मुंबई के सैफी हॉस्पिटल में गुरुवार सुबह 10. 30 बजे ली अंतिम सांस

- एयर एंबुलेंस से पार्थिव देह को आज लाया जाएगा शांतिवन मुख्यालय

- दादी जी की पार्थिव देह को कल अंतिम दर्शन के लिए रखा जाएगा

- 13 मार्च को माउंट आबू के ज्ञान सरोवर अकादमी में किया जाएगा अंतिम संस्कार

- दिव्य दृष्टि का था वरदान, एक साल पहले दादी जानकी के निधन के बाद नियुक्त की गई थीं ब्रह्माकुमारीज़ की मुख्य प्रशासिका


11 मार्च, आबू रोड(राजस्थान)। प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय की मुखिया राजयोगिनी दादी हृदयमोहिनी का गुरुवार सुबह 10.30 बजे देवलोकगमन हो गया। 93 वर्ष की आयु में उन्होंने मुंबई के सैफी हॉस्पिटल में अंतिम सांस ली। उन्हें दिव्य बुद्धि का वरदान प्राप्त था। एयर एंबुलेंस से उनके पार्थिव शरीर को ब्रह्माकुमारीज़ के अंतरराष्ट्रीय मुख्यालय आबू रोड, शांतिवन लाया जाएगा। 12 मार्च को उनकी पार्थिव देह को अंतिम दर्शन के लिए शांतिवन में रखा जाएगा। 13 मार्च को सुबह माउंट आबू के ज्ञान सरोवर अकादमी में अंतिम संस्कार किया जाएगा। दादी के निधन पर छत्तीसगढ़ की राज्यपाल अनुसुइया उइके, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भावपूर्ण श्रद्धांजलि दी है।

ब्रह्माकुमारीज़ के सूचना निदेशक बीके करुणा ने बताया कि राजयोगिनी दादी हृदय मोहिनी जी का स्वास्थ्य कुछ समय से ठीक नहीं चल रहा था। मुम्बई के सैफी हॉस्पिटल में आपका स्वास्थ्य लाभ चल रहा था। दादीजी के निधन की सूचना पर संस्थान के भारत सहित विश्व के 140 देशों में स्थित सेवाकेन्द्रों पर शोक की लहर दौड़ गई। साथ ही ब्रह्माकुमारीज़ के आगामी कार्यक्रमों को स्थगित कर दिया गया है। साथ ही विश्वभर में योग साधना का दौर चल रहा है।

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
जिंदगी का सफर-ये कैसा सफर कहानी क्या शिक्षा दे रही है वह बता रही है यह संसार ही समुंद्र है दंपत्ति का घर ही उसमें जलयान है यानी समुद्री जहाज है उसमें रहने वाले पति पत्नी मुसाफिर है और बच्चों को सही से इस भवसागर से पार तार देना कर्म नाम से जाना जाता है इसमें सफर कर रहे पति पत्नी पत्नी मोह के कारण डूब जाती है और पति ज्ञान रूपी नौका पर सवार होकर समुद्र से बाहर निकल आता है यह इस कहानी का सारांश या भावार्थ होना चाहिए आगे बता रहे हे सुंदर कहानी बता रहे है मेहरबान खान अपनी जबानी
Image