शामली श्रीमद्भागवत का छठा दिन भगवान कृष्ण रुक्मणी विवाह के पावन प्रसंग पर झूम उठे भक्त अरविंद कौशिक

 शामली श्रीमद् भागवत कथा के  छठे दिन पूजनीय श्री रोहिणी शरण जी महाराज ने  गोपेश्वर की कथा वह कृष्ण भगवान और  रुकमणी का विवाह  की अमृत वर्षा का सभी श्रीमद् भागवत श्रद्धालुओं को रसपान  कराया l इसके उपरांत श्रीमद् भागवत कथा के दौरान बीच में सुंदर-सुंदर झांकियां प्रस्तुत की l विवाह उत्सव पर श्रद्धालु गण भक्ति पूर्वक झूम उठे l 


मोहल्ला  बरखंडी  पर स्थित सिद्धपीठ डेरा बाबा भवानी नाथ  शिव मंदिर के महंत पीर  श्री शेर नाथ जी के आशीर्वाद से पंडित लक्ष्मण कौशिक द्वारा श्रीमद् भागवत कथा का छठे दिन का आयोजन बड़ी श्रद्धा पूर्वक किया गया इस अवसर पर सर्वप्रथम पंडित अनिल अचार्य पंडित विकास भारद्वाज ने संयुक्त रूप से श्रीमद् भागवत कथा को गणेश वंदना करते हुए शुभारंभ


कराया  छठे दिन के पावन कथा प्रसंग से पूजनीय श्री   रोहिणी शरण जी महाराज  ने बहुत ही सुंदर भगवान श्री कृष्ण की दिव्य महारास लीला का वर्णन किया भगवान की महारास लीला इतनी दिव्य  है की स्वयं भूत भावन भोलेनाथ महारास की झांकी का दर्शन करने के लिए गोपी रूप में आए जिससे कि भोलेनाथ का 1 नाम गोपेश्वर कहलाया और इसके पश्चात मथुरा गमन प्रसंग में  अक्रूर जी भगवान को लेने आए जब भगवान श्री कृष्ण मथुरा जाने लगे समस्त ब्रिज की गोपियां भगवान कृष्ण के रथ के आगे खड़ी हो गई और कहने लगी  हे कन्हैया जब आपको हमें छोड़कर ही जाना था तो हम से प्रेम क्यों किया आज आप हमको छोड़कर जा रहे हैं विधाता को कोसने  लगी हे विधाता तुमने यह दिन दिखाया ही क्यों  गोपियां भगवान से कहने लगी    हे श्यामसुंदर प्रीत मोहन से की इस भरोसे से की 4 दिन जिंदगी के निकल जाएंगे इसके बाद गोपी उद्धव संवाद  एवं बड़ी धूमधाम से भगवान श्री कृष्ण एवं रुकमणी जी का विवाह उत्सव मनाया गया सुंदर मनोहर झांकी का भक्तों ने  दर्शन किया और बड़ा ही सुंदर भजन 

आज मेरे श्याम की शादी है 

मेरे घर श्याम की शादी है 

श्रद्धालु बहुत झूमते हुए आनंद प्राप्त किया l इस अवसर पर अरविंद कौशिक मांगेराम नाम देव  उत्तम नामदेव सतेंद्र नामदेव पंकज नामदेव अनुज नामदेव प्रमोद  नामदेव संदीप नामदेव डॉ पवन नामदेव रजनीश नामदेव आदि श्रद्धालुओं ने उपस्थित थे

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
जिंदगी का सफर-ये कैसा सफर कहानी क्या शिक्षा दे रही है वह बता रही है यह संसार ही समुंद्र है दंपत्ति का घर ही उसमें जलयान है यानी समुद्री जहाज है उसमें रहने वाले पति पत्नी मुसाफिर है और बच्चों को सही से इस भवसागर से पार तार देना कर्म नाम से जाना जाता है इसमें सफर कर रहे पति पत्नी पत्नी मोह के कारण डूब जाती है और पति ज्ञान रूपी नौका पर सवार होकर समुद्र से बाहर निकल आता है यह इस कहानी का सारांश या भावार्थ होना चाहिए आगे बता रहे हे सुंदर कहानी बता रहे है मेहरबान खान अपनी जबानी
Image