शामली सिद्ध पीठ डेरा बाबा भवानी नाथ शिव मंदिर में श्रीमद् भागवत कथा की अमृत वर्षा अरविंद कौशिक

 शामली सिद्ध पीठ डेरा बाबा भवानी नाथ शिव मंदिर मैं कथावाचक द्वारा श्रीमद् भागवत कथा की अमृत वर्षा का भक्तों को रसपान कराया गया l


 मोहल्ला बरखंडी पर स्थित सिद्ध पीठ डेरा बाबा भवानी नाथ शिव मंदिर के महंत पीर श्री शेर नाथ जी के आशीर्वाद से पंडित लक्ष्मण कौशिक व श्रीमद् भागवत श्रद्धालुओं द्वारा श्रीमद् भागवत कथा का आयोजन किया गया जिसमें भारी संख्या में श्रीमद् भागवत श्रद्धालुओं ने श्रद्धा पूर्वक सम्मिलित होकर धर्म लाभ उठाया जिसमें  कलश यात्रा का आयोजन किया गया उक्त कलश यात्रा  को मंदिर की परिक्रमा कराई गई इसके उपरांत सर्वप्रथम पंडित अनिल अचार्य व पंडित विकास भारद्वाज ने संयुक्त रूप से मुख्य अतिथि के रुप में पधारे 


 पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष अरविंद संगल द्वारा श्रीमद् भागवत कथा का वैदिक मंत्रो से विधिपूर्वक पूजन करा कर शुभारंभ कराया इसके उपरांत श्रीमद् भागवत की आरती की गई और गणेश जी की वंदना के साथ साथ बाबा भवानी नाथ जी का भी गुणगान गाया गया इसको उपरांत वेद व्यास पीठ को बड़ी सुंदर ढंग से सजाया गया उस पर विराजमान श्री धाम वृंदावन वन से पधारे कथावाचक  श्री रोहिणी शरण जी महाराज  ने श्रीमद् भागवत कथा की अमृत वर्षा करते हुए सभी श्रद्धालुओं को रसपान कराया कथा प्रवक्ता ज्योतिष  महर्षि पंडित श्री रोहिणी पूजनीय महाराज जी ने कथा श्रवण करते हुए आज भागवत के महत्व  व भक्ति का महत्व के बारे में  बताया की  वृंदावन में भक्ति  क्यों  युवा है क्योंकि  वृंदावन में ब्रज का  कण   कण प्रभु के नाम से सरोवर है क्योंकि वृंदावन  प्रभु का धाम है जहां का कण-कण राधे-राधे के नाम से सरोवर है इसलिए वृंदावन में भक्ति युवा है उन्होंने  बड़ा सुंदर  गोकर्ण  उपाख्यान एवं  कथा सुनने की  विधि  समझाई और कथा विश्राम में बड़े सुंदर भजन  मेरा मन पंछी ये बोल  उड़ वृंदावन जाऊं आदि के भजनों पर सभी भक्तजन श्रीमद् भागवत कथा की अमृत वर्षा के साथ साथ राधा कृष्ण के भजनों पर श्रद्धा पूर्वक भक्ति में झूम उठे जिससे सारा क्षेत्र श्रीमद् भागवतमय हो गया

l चौधरी संसार सिंह, चौधरी रविंदर सिंह, मांगेराम नामदेव ,अरविंद कौशिक, सतेंद्र नामदेव, राजकुमार उर्फ बबलू ,जगत प्रसाद कौशिक, प्रमोद फुगाना वाले, प्रमोद नामदेव , चौधरी जितेंद्र निरवाल ,सुभाष चंद्र गर्ग, प्रवीण निरवाल, संदीप नामदेव, रजनीश नामदेव, नीटू निरवाल, चांद सिंह, चौधरी भुज वीर सिंह, डॉ पवन नामदेव ,चौधरी अजीत सिंह निरवाल ,चौधरी चंद्रबली निरवाल, चौधरी संजय निरवाल, चौधरी योगेंद्र सिंह निर्वाल ,ऋषि पाल उर्फ  निन्ना, आदि उपस्थिति थे l

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
जिंदगी का सफर-ये कैसा सफर कहानी क्या शिक्षा दे रही है वह बता रही है यह संसार ही समुंद्र है दंपत्ति का घर ही उसमें जलयान है यानी समुद्री जहाज है उसमें रहने वाले पति पत्नी मुसाफिर है और बच्चों को सही से इस भवसागर से पार तार देना कर्म नाम से जाना जाता है इसमें सफर कर रहे पति पत्नी पत्नी मोह के कारण डूब जाती है और पति ज्ञान रूपी नौका पर सवार होकर समुद्र से बाहर निकल आता है यह इस कहानी का सारांश या भावार्थ होना चाहिए आगे बता रहे हे सुंदर कहानी बता रहे है मेहरबान खान अपनी जबानी
Image