यूपी महामहिम राज्यपाल को प्रतापगढ़ में हुई पत्रकार की हत्या के विषय में मांग करते हुए बागपत इकाई उपजा रिपोर्ट देवेंद्र चौहान

 सेवा में


                    श्रीमान  महामहिम राज्यपाल महोदय  विषय:  प्रतापगढ़ में  पत्रकार  सुलभ श्रीवास्तव  की  हत्या के संबंध में।

  महामहिम को अवगत कराना है कि प्रदेश में आए दिन  पत्रकारों पर  जानलेवा हमले, हत्या, उत्पीड़न हो रहे हैं। इस उत्पीड़न में  प्रदेश की पुलिस सबसे अधिक जिम्मेदार है। पत्रकारों की सुरक्षा  पर कोई ध्यान नहीं दिया जाता है।  इससे पता चलता है कि फुलिस पत्रकारों के प्रति कितनी गंभीर है। सुलभ श्रीवास्तव की हत्या इसका जीता जागता  प्रमाण है।  उसके द्वारा शराब माफियाओं  से अपनी जान को खतरा बताते हुए शिकायती पत्र पुलिस को दिया था। लेकिन पुलिस ने उस पर कोई कार्रवाई नहीं की। यदि पुलिस समय रहते कार्रवाई कर देती तो इसमें सुलभ श्रीवास्तव की जान बच सकती थी। उत्तर प्रदेश जनरलिस्ट एसोसिएशन (उपजा) इकाई बागपत आपसे मांग करती है। 

1-मुख्यमंत्री राहत कोष से पीड़ित परिवार को  50 लाख की आर्थिक क्षतिपूर्ति दे सरकार। 

2- मृतक पत्रकार की पत्नी को सम्मानजनक सरकारी नौकरी मुहैय्या कराये राज्य सरकार

3- घटना की सीबीआई से ही जांच कराई जाय। 

4-पुलिस की भूमिका की भी जांच कराकर उन्हें भी दंडित किया जाय। 

5- पीड़ित परिवार की सुरक्षा  एवं अबोध बच्चों की परवरिश की भी सरकार जिम्मेदारी उठाये।

6. पत्रकारों की सुरक्षा के लिए प्रदेश सरकार को कानून बनाने के निर्देश दिए जाएं।


                                             भवदीय

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
क्योंकि पूरी दुनिया में कारपेट बिछाने से अच्छा है कि हम अपने पैरों में ही जूता पहन लें..