पत्रकारिता एक जुनून ना कोई ओधा ना सत्ता ना सरकार हूं मैं एक पत्रकार हूं मेहरबान खान

 पत्रकारिता  एक जुनून है


पत्रकारिता कलम से जिम्मदारों को जगाने की जिद है । यह वह शौक है जो हर कोई नही कर सकता यह किसी कला से कम नहीं , एक अच्छा  कलमकार एक अच्छा कलाकार भी है। जो अपनी कला से परिवर्तन  के लिए तत्पर रहता है ...

*न कोई ओहदा,न सत्ता,न सरकार हूँ मैं।*

*पर कलम से दुनिया को जगा सकता हूँ.. पत्रकार हूँ मैं।*

Popular posts
शामली पुलिस अधीक्षक की उप निरीक्षक तबादला एक्सप्रेस दर्जनों दरोगा इधर से उधर मेहरबान खान
Image
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
शामली भाजपा नेता अरविंद संगल को कोर्ट ने भेजा जेल मेहरबान खान
Image
संजीव बालियान के भाई राहुल कुटबी का निधन 4 दिन में दो भाइयों की मौत
Image
नव दलित लेखक संघ की मासिक गोष्टी का आयोजन बुध विहार खानपुर नई दिल्ली में बंशीधर नाहरवार की अध्यक्षता में संपन्न
Image