ग्रेटर नोएडा हथियारों की अवैध फैक्ट्री चेंज करते भरी गई हथियारों के 3तस्कर देवेंद्र चौहान

 *ग्रेटर नोएडा ,मेरठ में शिफ्ट करने वाले थे पिस्टल बनाने की फैक्ट्री, तीन आरोपी गिरफ्तार -*




 ग्रेटर नोएडा ,कोतवाली बिसरख पुलिस और स्वाट टीम ने शनिवार को अवैध पिस्टल बनाने की फैक्ट्री को गाजियाबाद से मेरठ शिफ्ट करने जा रहे 3 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने आरोपियों से 10 अंग्रेज़ी पिस्टल, बड़ी मात्रा में हथियार बनाने में प्रयोग किया जाने वाला सामान, करीब 80 कारतूस और एक कार बरामद की है।


डीसीपी क्राइम अभिषेक ने बताया कि स्वाट टीम को सूचना मिली थी कि शनिवार को ग़ाज़ियाबाद के कैला भट्टा इलाके में चलने वाली अवैध हथियार फैक्ट्री को कुछ बदमाश मेरठ में शिफ़्ट करने के लिए बिसरख थाना क्षेत्र से होते हुए जाने वाले हैं। इस पर कोतवाली बिसरख पुलिस और स्वाट टीम ने जॉइंट ऑपेरशन कर तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। इनकी पहचान शकील, आफताब और सगीर के रूप में हुई है डीसीपी ने बताया कि आरोपियों के पास से 10 अंग्रेजी पिस्टल 50 खोखा कारतूस 30 जिंदा कारतूस समेत पिस्टल बनाने के लिए जरूरी सामान और औजार भी बड़ी मात्रा में बरामद किया गया है। आरोपी जिस कार से जा रहे थे उस कार को भी पुलिस ने जब्त कर लिया है।



*तिहाड़ जेल से शुरू किया था अवैध हथियार का व्यापार*


पुलिस के मुताबिक 2010 में दिल्ली की स्पेशल सेल ने हाशिम को अवैध पिस्टल बनाने और उसके व्यापार करन के आरोप में जेल भेजा था। जेल में हाशिम की मुलाकात शकील से हुई और वहीं पर दोनों के बीच में अवैध हथियार बनाकर बेचने के कारोबार के बारे में डील हो गयी।


*दिल्ली से माल लेकर बनाते थे पिस्टल*


आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि दिल्ली निवासी सलीम से हथियारों की असेंबलिंग के लिए माल खरीदते थे। पिस्टल तैयार होने के बाद वो रईस को पिस्टल बेच देते थे और रईस आगे ग्राहकों को वो हथियार सप्लाई करता था।


*महंगी विदेशी पिस्टल की तर्ज़ पर बनाते थे हथियार*


पुलिस के मुताबिक आरोपी अमेरिकी फौज के प्रयोग में लाई जाने वाली "ब्रेटा" और स्पेन की मशहूर "लामा" पिस्टल के नाम पर हूबहू उसी डिज़ाइन की पिस्टल तैयार करते थे और फिर रईस को 25 हज़ार प्रति पिस्टल की दर से बेच देते थे। जबकि रईस उसे 1 लाख रुपये की ग्राहकों को बेचता था।


*शाहबेरी में भी अवैध हथियार फैक्ट्री चलने की मिली जानकारी*


आरोपियों ने पूछताछ बताया कि उनके कई साथी अवैध हथियार के दिल्ली से कच्चा माल लाकर कोतवाली बिसरख क्षेत्र के शाहबेरी इलाके में पिस्टल और तमंचा तैयार कर रहे हैं और उन्हें दिल्ली-एनसीआर में बेच रहे हैं।


*आरोपी दूसरे धंधे की आड़ में चला रहे थे अवैध हथियार का व्यापार*


स्वाट टीम प्रभारी शावेज़ खान ने बताया कि इस गिरोह का सरगना शकील निवासी कैला भट्टा ग़ाज़ियाबाद समरसेबल लगाने का काम करता है जबकि आफताब और सगीर की ज्वैलरी की दुकान है। आरोपी मुख्य रूप से अन्य व्यापार कर रहे थे जबकि इन व्यापार की आड़ में हथियार फैक्ट्री चला रहे थे।


*रईस की पुलिस को तलाश*


स्वाट टीम प्रभारी ने बताया कि आरोपी मेरठ में रईस की मदद से नई हथियार फैक्ट्री लगाने जा रहे थे और रईस ही इनसे पिस्टल खरीदता था। अब पुलिस आरोपी रईस की तलाश कर रही है जिससे यह जानकारी मिल सके कि इन लोगों ने किस किस को अवैध हथियार बेचे हैं।


*टीम को इनाम*


डीसीपी क्राइम ने बताया कि पुलिस कमिश्नर गौतमबुद्ध नगर आलोक सिंह ने अवैध हथियार फैक्ट्री के आरोपियों को गिरफ्तार  करने वाली स्वाट टीम को 40 हज़ार रुपये पुरस्कार दिए जाने की घोषणा की है।

Popular posts
शाहपुर दबंगों की दबंगई पत्रकार को दौड़ाकर पीटा कानून व्यवस्था पर सवाल मेहरबान खान
Image
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
खतौली सीओ गली के गुंडे जैसे मतदाताओं को गाली गलौज करते हुए चुनाव आयोग ले संज्ञान मतदाता को भी करानी चाहिए सीओ के खिलाफ f.i.r.
Image
दिल्ली पुलिस की सराहनीय कार्रवाई बस लुट मे शामिल तीन लुटेरों को धर दबोचा
Image
दिल्ली पुलिसAATS पूर्वी जिला टीम को बड़ी सफलता शातिर अपराधियों को रंगे हाथों दबोचा
Image