यूपी में यह क्या हो रहा है पुलिस महिलाओं की छाती पर चढ़कर कर रही है तांडव मेहरबान खान

 कानपुर देहात: यूपी पुलिस के दरोगा ने लांघी सारी मर्यादाएं, दिनदहाड़े महिला की छाती पर चढ़कर बैठा 



कानपुर देहात. यूपी के कानपुर देहात में शनिवार को दिल दहलाने वाली घटना सामने आ रही है. जहां खाकी ने महिलाओं की मर्यादा की सारी सीमाएं तार- तार कर दी है. अभी लखीमपुर की घटना को चंद रोज भी नहीं हुए कि यूपी पुलिस ने फिर अपना आपा खो दिया है. मामला कानपुर देहात के भोगनीपुर थाने के दुर्गदासपुर गांव का है. जहां भोगनीपुर कोतवाली के पुखरायां चौकी इंचार्ज महेंद्र पटेल और चौकी के चार सिपाहियों ने एक परिवार पर कहर ढहा दिया. बिना महिला कांस्टेबल के पीड़ित के घर दबिश देने पहुचे चौकी इंचार्ज ने पूरे परिवार की महिलाओं को गांव में रहने वाले इंद्रजीत की पत्नी श्यामा देवी को सड़क पर गिराकर मारा. वहीं पीड़िता के सीने पर चढ़ गये. जब अपनी सास को बचाने आयी बहू आरती को भी चौकी इंचार्ज ने नहीं छोड़ा और उसको गिरा कर सीने पर चढ़ गये.


मामला सामने आने के बाद कानपुर देहात के पुलिस अधीक्षक केशव कुमार चौधरी ने बताया कि पुलिस दबिश देने गई थी. वहां विवाद हुआ जिसके बाद एक महिला और चौकीदार का फोटो और वीडियो वायरल हुआ है. महिला का आरोप है कि उसके घर वालों को जबरदस्ती पकड़ कर ले जा रहे थे. उन्होंने बताया कि पूरे मामले की पुलिस जांच कर रही है, जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
क्योंकि पूरी दुनिया में कारपेट बिछाने से अच्छा है कि हम अपने पैरों में ही जूता पहन लें..