यह चूहा मंत्री कह रहा है राकेश टिकैत की औकात नहीं राकेश टिकैत एक व्यक्ति नहीं पूरा समुदाय हैं

 राकेश टिकैत की औकात नहीं जो लखनऊ का घेराव कर सके राजेश्वर सिंह दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री


राकेश टिकैत जी को पहले किसानों से और बिरादरी से पूछने के बाद ही ऐसा ध्या बयन देना चाहिए था परंतु यह लोग पता नहीं क्या समझते हैं अपने आपको एक कोई भी बयान बिना अपने समुदाय संगठन को विश्वास में लिए सलाह मशवरा किए बिना घोषणा कर देते हैं इसका फल पूरी बिरादरी को भुगतना पड़ता है पता नहीं यह मूर्ख लोग कब समझेंगे इन्हीं ऐसा लगता है जैसे बिरादरी इन्हीं के लिए बनी है परंतु अब समय इस बात का नहीं है राकेश टिकैत ने घोषणा क्योंकि अब किसानों को पहले तो सरकार की बुद्धि की ठीक करनी चाहिए उसके बाद राकेश टिकैत की भी बुद्धि की ठीक करनी चाहिए क्या बिरादरी इनकी बद्दुआ मजदूर है या गुलाम है यह कोई भी घोषणा करेंगे और यह नहीं समझेंगे कि इसका फर्क पूरी बिरादरी पर पड़ेगा पता नहीं ऐसे ऐसे मूर्ख बिरादरी के लंबरदार बने बैठे हैं इनके व्यक्तिगत स्वार्थों के लिए अब पता नहीं बिरादरी को क्या कीमत चुकानी पड़ेगी क्योंकि यह भी सच है उत्तर प्रदेश सरकार के बड़बोले मंत्री राकेश टिकैत के विषय में जो बोल रहे हैं इसका सीधा सीधा हमला हम सब लोगों पर है अब यह एक लास्ट बार सरकार और राकेश टिकैत दोनों को ही ठीक करना पड़ेगा बिरादरी को ऐसे पीछे लग गए नहीं चलना चाहिए प्रेशर बनाना चाहिए मुंह खोलने से पहले उन लोगों से पूछ लिया जाए जिनके भरोसे तुम अनाप-शनाप कुछ भी बोलना बंद नहीं करते

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
क्योंकि पूरी दुनिया में कारपेट बिछाने से अच्छा है कि हम अपने पैरों में ही जूता पहन लें..