तिहाड जेल में पहले हरेंद्र सोलंकी आज अंकित गुर्जर की हत्या जेल प्रशासन पर सवालिया निशान

 प्राप्त समाचार के अनुसार आज अर्ली मॉर्निंग तिहाड़ जेल नंबर तीन मैं अंकित गुर्जर की हत्या

अंकित के परिजनों ने लगाया जेल प्रशासन पर हत्या का आरोप डिप्टी जेलर नरेंद्र मीणा पर हत्या से पहले पीटने का आरोप लगाया है परिजन यह भी आरोप लगा रहे हैं कि जेल प्रशासन कैदियों पर दबाव बना रहा है कि इस हत्या को अपने ऊपर ले लो अंकित गुर्जर की हत्या इस जेल में पहली हत्या नहीं है इससे पहले 2019मे हरेंद्र सोलंकी चेयरमैन मलकपुर मिल पूर्व विधायक सतेंद्र सोलंकी के भाई की हत्या हो चुकी है जिसकी मजिस्ट्रेट जांच चल रही है आए दिन जेल में इस प्रकार हत्या होना जेल प्रशासन की तरफ संदिग्ध नजर डालने को मजबूर कर रहा है ऐसा क्या है जो एक के बाद एक हत्या हो रही है और हत्यारों का खुलासा भी नहीं हो पाता जेल के अंदर हत्याओं का खुलासा ना होना जेल प्रशासन पर प्रश्न चिन्ह है और जांच का विषय है  दिल्ली पुलिस के लिए भी गले की फांस बन गई है हत्या खोलें या जेल प्रशासन को बचाऐ अब देखना यह है कि दिल्ली पुलिस जेल प्रशासन पर नजरें इनायत रखता है या फिर  निष्पक्ष जांच कर असली मुलजिम को सामने ला पाएगा जिसमें जेल प्रशासन पर परिजनों का सीधा आरोप है होना तो यह चाहिए के जिस नरेंद्र मीणा पर हत्या का आरोप लग रहा है सबसे पहले उसे पद से हटाया जाए फिर हत्या का मुकदमा दर्ज कर निष्पक्ष जांच होनी चाहिए नरेंद्र मीणा के पद पर रहते निश्चित रूप से निष्पक्ष जांच नहीं की जा सकती जेल प्रशासन को भी संदेह के दायरे में रखते हुए निष्पक्ष जांच करनी चाहिए जिससे अंकित गुर्जर ही नहीं हरेंद्र सोलंकी आदि की हत्या के मामले को भी सुलझाया जा सकेदिल्ली पुलिस के अनुसार कब क्या हुवा
दिल्ली पुलिस में दो सगे भाइयों जो तिहाड़ जेल में ही बंद है उनके खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया है और पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर जांच की जाएगी देखते हैं दिल्ली पुलिस निष्पक्ष जांच कर पाती है दिल्ली पुलिस देश की बहुत ही मजबूत सिविल फोर्स समझी जाती है और हत्यारा दिल्ली पुलिस के तुम मुझसे बचपाऐ ऐसा लगता तो नहीं देखिए क्या होता है हम इस घटना पर नजर गडाऐ रखेंगे

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
क्योंकि पूरी दुनिया में कारपेट बिछाने से अच्छा है कि हम अपने पैरों में ही जूता पहन लें..