कविता गुरु एक शिल्पकार है रचनाकार विजय सिंह बलिया यूपी

 कविता

शीर्षक - "गुरु : एक शिल्पकार"

रचनाकार - विजय सिंह  बलिया उतरप्रदेश । 


लक्ष्यविहीन सा मैं था,

दिशाविहीन से पथ पर!

गतिविहीन से कालचक्र के,

मायावी मस्तक पर!!

              

               चंचल मन में व्यतिक्रम था,

               आशाओं का उद्गम था!

               घने तिमिर के प्रादुर्भाव में,

               ठोकर खाता जीवन था!!


हुनर की बारीकियां भी, 

ना किस्मत बदल सकीं!

ना तो सीरत बदली,

ना नीयत बदल सकी!!


               जब भी मिली पराजय,

               मायूस हो गए!

               पर ना पैतरा बदला,

               ना सूरत बदल सकी!! 


मंथन होना है समुद्र का,

पर बलिदान करेगा कौन!

महादेव बन, नीलकंठ सा,

विष का पान करेगा कौन!!


               सबको अमृत की आशा है,

               मृत्युंजय सी अभिलाषा है! 

               स्वर्ण भस्म, कुंदन बनने को,

                तप कर आग बनेगा कौन!! 


नव प्रभात की आस में,

विजय के विश्वास में!

जो मांगा था नियति से,

वो मिला गुरु के पास में!!


               गुरु से साक्षात्कार हुआ,

               जीवन का उद्धार हुआ!

               ज्ञान योग से मानव मन,

               बैतरणी के पार हुआ!! 


गुरु होते हैं शिल्पकार,

करते जीवन का परिष्कार!

करता विजय नमन इन्हें,

जिसे करें सहर्ष स्वीकार!!

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
13 दिसंबर स्वामी विद्यानंद गिरी महाराज की पुण्यतिथि प्रवर्तन योद्धा मोहन जोशी के जन्मदिन पर विशेष महावीर संगल जी
Image
अकबर महान पढा पर एक सच्चाई जो छुपाई गई देखें इस लेख में पवन सिंह तरार
Image
इस लड़की का नाम अमृता कुमारी और पिता का नाम ब्रह्मा प्रसाद है कुशीनगर के पास जंगल चौरी गांव की रहने वाली है कोई लड़का बहका कर सिवान लेकर चला गया
Image
दिल्ली पुलिस पूर्वी जिला एटीएस का चोरों पर कसते शिकंजे से जनता को राहत
Image