शामली नवरात्रि समापन के अवसर पर कु0 वंशिका देवी के भजनों पर झूमे उठे श्रद्धालु

 शामली देवी भागवत श्रद्धालुओ द्वारा देवी भागवत का आयोजन किया गया जिसमें सैकड़ों श्रद्धालुओं ने देवी भागवत में सम्मिलित होकर धर्म लाभ उठाया उसके उपरांत भंडारे का आयोजन किया गया l


पुरानी सब्जी मंडी मैं स्थित सिद्ध पीठ देवी मंदिर अट्ठे वाला मैं देवी भक्तों द्वारा विधिपूर्वक वैदिकमंत्रों उपरांत देवी भागवत कथा का आयोजन किया गया जिसमें भव्य व्यास पीठ पर विराजमान कुo वंशिका देवी कथावाचक ने सभी  श्रद्धालुओं को देवी भागवत की अमृत वर्षा


का रसपान कराया सभी श्रद्धालुगण देवी भागवत की अमृत वर्षा का रसपान करते हुए श्रद्धा से झूम उठे और माता के जयघोष से  सारा क्षेत्र  देवीमय गया इसके उपरांत व्यासपीठ पर विराजमान कुमारी वंशिका देवी का देवी भक्तों द्वारा पकड़ी पहनाकर और माला अर्पण कर सम्मानित किया गया इस अवसर पर कुo श्री वंशिका कथावाचक ने कहा जो श्रद्धालु श्रद्धा पूर्वक देवी भागवत को सुनते हैं उस पर मनन करते हैं उनके जीवन में सुख, शांति, वैभव ,कीर्ति ,यश, आदि बना रहता है उन्हें कभी भी दुखों का सामना नहीं करना पड़ता क्योंकि माता रानी का आशीर्वाद उनके ऊपर हमेशा बना रहता है देवी भागवत कथा के समापन के उपरांत विशाल भंडारे का आयोजन किया गया जिसमें सर्वप्रथम कन्याओं को हलवा पुरी का भोजन करा कर भंडारे का शुभारंभ किया गया जिसमें सैकड़ों श्रद्धालुओं ने भंडारे में सम्मिलित होकर प्रसाद ग्रहण कर धर्म लाभ उठाया

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
भ्रष्टाचार के विरुद्ध दुनिया का सबसे लंबा धरना मास्टर विजय सिंह महान युवा अब बूढ़ा हो चला थक गई आंखें इंतजार करते क्या कभी यह इंतजार खत्म होगा कोई ईमानदार शासक आएगा इस महान चेतन पर दृष्टिपात करेगा
Image
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
कैराना कलस्यन खाप भवन भाजपा गांव चलो अभियान की समीक्षा करते स्थानीय नेता एवं कार्यकर्ता
Image
कर्मशील भारतीके नाटक क्रांति सूर्य ज्योतिराव फुले पर नंदलेश ने की परिचर्चा गोष्ठी
Image