मृतक आश्रित कोटे मे विवाहित पुत्री का नहीं है अधिकार हाई कोर्ट इलाहाबाद

 प्रयागराज



इलाहाबाद हाईकोर्ट का महत्वपूर्ण फैसला,


विवाहिता पुत्री मृतक आश्रित कोटे में नियुक्ति पाने की नहीं है हकदार,


कोर्ट ने कहा शिक्षण संस्थाओं के लिए बने रेग्यूलेशन 1995 के तहत विवाहिता पुत्री परिवार में शामिल नहीं है,


आश्रित कोटे में नियुक्ति की मांग अधिकार के रूप में नहीं की जा सकती,


याची ने छिपाया कि उसकी मां को पारिवारिक पेंशन मिल रही है,


इसके साथ ही मां याची पर आश्रित नहीं है,


कानून एवं परंपरा दोनों के अनुसार विवाहिता पुत्री अपने पति की आश्रित होती है,


विवाहित पुत्री पिता की आश्रित नहीं होती,


कोर्ट ने राज्य सरकार की विशेष अपील को स्वीकार किया,


डीआईओएस शाहजहांपुर ने मृतक आश्रित कोटे में अनुकंपा नियुक्ति देने से किया था इंकार,


एकलपीठ के आश्रित कोटे में नियुक्ति देने के 9अगस्त 21 का आदेश किया रद्द,


माधवी मिश्रा ने विवाहिता पुत्री के तौर पर विमला श्रीवास्तव केस के आधार पर मृतक आश्रित कोटे में नियुक्ति की मांग की,


याची के पिता इंटर कॉलेज में तदर्थ प्रधानाचार्य पद पर कार्यरत थे,


याची के पिता की सेवाकाल में उनकी मृत्यु हो गई,


एक्टिंग चीफ जस्टिस एम एन भंडारी और जस्टिस विवेक अग्रवाल की खंडपीठ ने दिया आदेश।

Popular posts
संविदा व ठेके पर नगर पालिका में सफाई कर्मियों को परमानेंट कराने हेतु मुख्यमंत्री के नाम डीएम को ज्ञापन अरविंद झंझोट
Image
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
महर्षि बाल्मीकि पर आप नेता ने की अभद्र टिप्पणी बाल्मीकि समाज में रोष अरविंद झंझोट
Image
सफाई कर्मचारियों को नियमित कराने के लिए मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन
Image
बागपत पुलिस पीड़ित पिता का थप्पड़ से स्वागत प्रभारी लाइन हाजिर
Image