कविता कानून और संविधान लेखक विजय सिंह बलिया

 कविता

शीर्षक “समान कानून और संविधान

 

*लेखक  विजय सिंह बलिया उत्तरप्रदेश*


संविधान के भाव को समझो,

सबको समान अधिकार मिले!

क्यों रहे कोई लाभ से वंचित,

कर्मों को पुरस्कार मिले!!


       धारा 14 कहती है,

       सब हों एक समान!

       फिर कोई मेधावी बनकर,

       क्यों पाता है अपमान? 

एक देश में एक विधान हो,

सब धर्मों पर एक समान हो!

विजय! सुदृढ़ भारत की आशा,

पुनः यशस्वी उदीयमान हो!!


     हे न्यायालय के मुखिया,

     न्यायमूर्ति, अदालत के स्वामी!

     इसपर स्वतः संज्ञान नहीं लेते,

     क्यों देख नहीं पाते ख़ामी!! 

दही हांडी में मानव शृंखला,

पर भी राय सुनाते हैं!

कश्मीर में पत्थरबाजी पर,

पैलेट गन रुकवाते हैं!!


           समान कानून संहिता बिल का,

           अब संसद से हो जाए शुरुआत!

           कार्यपालिका के नीति नियंता,

           करें समान कानून पर दृष्टिपात !! 

स्वाति नक्षत्र की बूंद भले ही,

गुण, स्वभाव से एक है!

लेकिन इसके नियति के,

होते परिणाम अनेक हैं!!


             कदली के पौधे पर गिर कर,

             वो कपूर बन जाती है!

             सीप में जो गिर जाए तो,

             वो मोती बन जाती है!!

जीवन चक्र का उद्गम क्या?

इसका विशेष प्रभाव नहीं!

श्रम, प्रतिभा और समर्पण का,

बस हो जाए सम्मान सही!!


           एक राष्ट्र और एक टैक्स का,

           आखिर सफ़ल हुआ अभियान!

           तो क्यों ना अब मानव जन को,

           कानून भी मिले एक समान!!

Popular posts
ज़ी न्यूज़ चीफ एडिटर सुधीर चौधरी का इस्तीफा देखे क्या है कारण मेहरबान खान
Image
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
देखें देश प्रदेश की प्रमुख खबरें महाराष्ट्र कौन मुख्यमंत्री यूपी परिवहन विभाग में बंपर तबादले आंखों देखे देवेंद्र चौहान
Image
दलित साहित्य के प्रती सांस्कृतिक मंत्रालय उदासीन नव दलित संघ मे रोस साहित्य अकादमी को लिखा पत्र
Image
छत्तीसगढ़ कौन है दावते इस्लाम6800 हेक्टेयर भूमिका क्यों चाहता है आवंटन
Image