मा0 मुलायम अतीक कुत्ते के दोस्त या बबरी शेर आदित्यनाथ है महान यशस्वी जाट तुझे जो डीएनए पसंद उसे चुन

माफिया डॉन अतीक अहमद के कुत्ते से दोस्ती करने वाला डीएनए पसंद है जनता को या फिर अपना बबरी शेर आदित्यनाथ महाराज यह जनता को तय करना है खासकर पश्चिम उत्तर प्रदेश की महानता बहादुर बिरादरी माने जाने वाली जाट बिरादरी को अपना शेर पसंद है या अतीक अहमद के कुत्ते से दोस्ती करने वाला मैंमना आप पर छोड़ते हैं आपको किसे चुना है सोच समझकर निर्णय लेना



चित्र 1989 का है जब उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव को अतीक अहमद ने अपने घर बुलाकर अपने पालतू कुत्ते से उनका हाथ मिलवाया था।




अगले दिन यह चित्र सभी प्रमुख समाचार पत्रों में छपा था उसके बाद अतीक अहमद ने खुलकर कोहराम मचाया और प्रदेश के किसी पुलिस अधिकारी की हिम्मत नही हुई कि अतीक पर हाथ डाल सके


सपा और बसपा से लगातार इस अतीक अहमद को विधायक सांसद बनाया जाता रहा..


फिर 2017 में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने योगी


आदित्यनाथ....


उसके बाद न केवल अतीक अहमद जेल में डाला गया बल्कि उसकी तमाम अवैध वसूली से बनाई गई संपत्तियां जब्त की गई.... उन पर बुलडोजर चलाया गया


जिस माफिया के कुत्ते से यूपी का मुख्यमंत्री हाथ मिलाया करता था उस माफिया को एक मुख्यमंत्री ने कुत्ता बना दिया।


2022 में एकबार फिर उत्तर प्रदेश के वोटर के पास अवसर है कि वह माफिया को पोषित करने वालों को सत्ता देता है अथवा माफिया, गुंडे एवं अपराधियों पर


कमेंट लिखें...


III

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
क्योंकि पूरी दुनिया में कारपेट बिछाने से अच्छा है कि हम अपने पैरों में ही जूता पहन लें..