1989 मुलायम सिंह का अजीत सिंह की पीठ में खंजर घोंपना क्या भूल जाएंगे जाट

 'यूपी का जंगलराज'


: जब मुलायम सिंह ने घोंपा था अजीत सिंह की पीठ में खंज़र...!


राष्ट्रीय लोकदल के पूर्व प्रमुख एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री चौधरी अजीत सिंह विश्वनाथ प्रताप सिंह की सरकार से लेकर मनमोहन सिंह तक की हर केंद्र सरकार में मंत्री रहे लेकिन उनका उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बनने का सपना कभी साकार नहीं हो सका। हालांकि वर्ष 1989 के चुनाव में जनता दल की जीत के बाद अजीत सिंह का नाम मुख्यमंत्री पद के लिए घोषित हो चुका था लेकिन समाज़वादी पार्टी के नाम से कुख्यात समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव ने धोखे से भरा हुआ ऐसा दांव चला कि उनका उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बनने का सपना अधूरा रह गया और मुलायम उनकी पीठ में खंजर भोंक कर उत्तर प्रदेश की सत्ता पर क़ाबिज़ हो बैठे।


दरअसल वर्ष 1980-90 के दशक में उत्तर प्रदेश में जनता पार्टी, जन मोर्चा, लोकदल (अ) और लोकदल (ब) ने मिलकर जनता दल का गठन किया था। इन चार दलों की एकजुट ताक़त ने असर दिखाया और वर्ष 1989 में हुए उत्तर प्रदेश चुनाव में एक दशक के बाद विपक्ष को 208 सीटों पर जीत मिली थी। उस समय अविभाजित उत्तर प्रदेश में कुल 425 विधानसभा सीटें थीं जिसके चलते जनता दल को बहुमत के लिए कुछ अन्य विधायकों की आवश्यकता थी।


उत्तर प्रदेश में जनता दल की ओर से मुख्यमंत्री पद के दो उम्मीदवार थे- लोकदल (ब) के नेता मुलायम सिंह यादव और चौधरी चरण सिंह की राजनीतिक विरासत की दावेदारी कर रहे उनके पुत्र चौधरी अजीत सिंह! सूबे में जनता दल की जीत के बाद तत्कालीन प्रधानमंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह के द्वारा मुख्यमंत्री पद के लिए चौधरी अजीत सिंह का नाम लगभग-लगभग तय हो चुका था। चौधरी अजीत सिंह शपथ लेने की तैयारियां कर ही रहे थे कि मुलायम सिंह यादव ने उनकी पीठ में खंजर भोंक दिया। मुलायम सिंह यादव ने ऐसा दांव चला कि जनमोर्चा के विधायक अजीत सिंह के ख़िलाफ़ खड़े हो गए और मुलायम को मुख्यमंत्री बनाने की मांग करने लगे। अंततः अजीत सिंह मुख्यमंत्री पद की शपथ नहीं ले पाए और मुलायम सिंह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बन गए।


उस समय केंद्र में भी जनता दल की सरकार बनी थी और विश्वनाथ प्रताप सिंह देश के प्रधानमंत्री थे। उत्तर प्रदेश में पार्टी की जीत के साथ ही उन्होंने घोषणा कर दी थी कि अजीत सिंह मुख्यमंत्री होंगे और मुलायम सिंह यादव उप-मुख्यमंत्री। उनकी इस घोषणा के पश्चात लखनऊ में अजीत सिंह की ताजपोशी की तैयारियां चल रही थीं कि मुलायम सिंह यादव ने उप-मुख्यमंत्री पद ठुकरा कर मुख्यमंत्री पद की दावेदारी प्रस्तुत कर दी। तब प्रधानमंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह ने फ़ैसला किया कि मुख्यमंत्री पद का फ़ैसला लोकतांत्रिक तरीके से विधायक दल की बैठक में गुप्त मतदान के ज़रिए से होगा। इसके बाद फिर जो हुआ वह भारतीय राजनीति के सबसे बड़े धोखों की दुनिया का एक अहम किस्सा है।


पूर्व प्रधानमंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह के आदेश पर मधु दंडवते, मुफ़्ती मोहम्मद सईद और चिमन भाई पटेल बतौर पर्यवेक्षक उत्तर प्रदेश भेजे गए। केंद्र के द्वारा भेजे गए पर्यवेक्षकों के द्वारा एक बार फिर से यह कोशिश की गई कि मुलायम सिंह यादव उप-मुख्यमंत्री का पद स्वीकार कर लें लेकिन मुलायम सिंह इसके लिए तैयार नहीं हुए। इसके पीछे की मुख्य वजह यह थी कि मुलायम ने बेहद ख़ामोशी के साथ अजीत सिंह के विश्वास को तोड़ते हुए एक तगड़ा दांव खेल दिया था। मुलायम सिंह ने बाहुबली डी. पी. यादव की मदद से अजीत सिंह के खेमे के 11 विधायकों को तोड़कर अपने पक्ष में कर लिया था। इस काम में बेनी प्रसाद वर्मा ने मुलायम सिंह की मदद की थी।


विधायक दल की बैठक के दिन सभी विधायकों को लेकर गाड़ियों का काफ़िला विधानसभा में मतदान स्थल पर पहुंचा। विधायक को अंदर करने के बाद विधानसभा के सारे दरवाज़े बंद कर दिए गए। विधानसभा के बाहर जनता दल के कार्यकर्ताओं का हुजूम लगातार अपने-अपने नेताओं के पक्ष में ‘ज़िंदाबाद’ के नारे लगा रहा था। तिलक हॉल के बाहर दोनों नेताओं के समर्थक बंदूकें लहरा रहे थे। तय समय पर मतदान हुआ और पहले से तय योजना के मुताबिक़ अजीत सिंह, मुलायम सिंह से महज़ पांच मतों से हार गए। 


इस तरह उत्तर प्रदेश में गठबंधन की जीत सुनिश्चित करने में सबसे प्रमुख भूमिका निभाने वाले अजीत सिंह को मुलायम सिंह यादव के द्वारा ऐतिहासिक रूप से धोखा दे दिया गया था। एक झटके में अजीत सिंह के हाथ से उत्तर प्रदेश की सत्ता को छीन कर मुलायम सिंह प्रदेश के मुख्यमंत्री बन गए। 05 दिसंबर, 1989 मुलायम ने पहली बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली और उसके बाद तमंचे की नोंक पर उत्तर प्रदेश में समाज़वादी हुक़ूमत की नींव रखने में कामयाबी हासिल की।

Popular posts
संविदा व ठेके पर नगर पालिका में सफाई कर्मियों को परमानेंट कराने हेतु मुख्यमंत्री के नाम डीएम को ज्ञापन अरविंद झंझोट
Image
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
महर्षि बाल्मीकि पर आप नेता ने की अभद्र टिप्पणी बाल्मीकि समाज में रोष अरविंद झंझोट
Image
सफाई कर्मचारियों को नियमित कराने के लिए मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन
Image
बागपत पुलिस पीड़ित पिता का थप्पड़ से स्वागत प्रभारी लाइन हाजिर
Image