शामली झिंझाना सीआरपीएफ जवान की विषैले पदार्थ से मौत क्षेत्र में शोक रिपोर्टर एके शर्मा

 बिडौली 27 मार्च

दो वर्ष पूर्व सीआरपीएफ में भर्ती हुए झिंझाना क्षेत्र के जवान की विषैला भोजन खाने से मौत

हो गई है । युवक की मौत से परिजनों में कोहराम मच गया है । सीआरपीएफ की टीम के जवान के शव को लेकर गांव में पहुंचते ही पूरे गांव में शोक की लहर दौड़ गई है । गमगीन माहौल में सलामी के साथ  जवान के शव का अंतिम संस्कार किया गया ।

   ग्राम पंचायत काला माजरा के मजरा डेरा सिंगापुर निवासी गौरव पुत्र महिपाल 2019 में सीआरपीएफ में शूटर के रूप में भर्ती हुआ था । गौरव एक साधारण किसान परिवार से था । 24 मार्च शाम को खाना खाने के बाद अचानक गौरव की हालत खराब हो गई । जिसे विभागीय अस्पताल में भर्ती कराया गया  । जहा 26 मार्च को उपचार के दौरान गौरव की मौत हो गई । गौरव की मौत की खबर सुनते ही परिवार में कोहराम मच गया । सी आर पी एफ के जवान गौरव के शव को लेकर जैसे ही गांव में पहुंचे पूरे गांव में शोक की लहर दौड़ गई । गार्ड ऑफ ऑनर देने के बाद जवान के शव को मुखाग्नि देकर अंतिम संस्कार किया गया । गौरव अपने दो भाइयों और दो बहनों में तीसरे नंबर का था । कुछ दिन पहले गौरव ने भोपाल राइफल के रैकिंग ट्रायल में 15 वी रैंक हासिल की थी । 

Ak sharma bidoli

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
जिंदगी का सफर-ये कैसा सफर कहानी क्या शिक्षा दे रही है वह बता रही है यह संसार ही समुंद्र है दंपत्ति का घर ही उसमें जलयान है यानी समुद्री जहाज है उसमें रहने वाले पति पत्नी मुसाफिर है और बच्चों को सही से इस भवसागर से पार तार देना कर्म नाम से जाना जाता है इसमें सफर कर रहे पति पत्नी पत्नी मोह के कारण डूब जाती है और पति ज्ञान रूपी नौका पर सवार होकर समुद्र से बाहर निकल आता है यह इस कहानी का सारांश या भावार्थ होना चाहिए आगे बता रहे हे सुंदर कहानी बता रहे है मेहरबान खान अपनी जबानी
Image