शादी के 7 साल से बच्चों का सूखा झेल रही रेशमा के घर 5 बच्चों की अद्भुत बरसात राजस्थान

 शादी के 7 साल बाद पहली बार मां बनी रेश्मा, एक साथ 5 बच्चों को दिया जन्म, परिवार में जश्न



_राजस्थान में महिला ने एक साथ दिया 5 बच्चों को जन्म: राजस्थान के करौली में एक महिला रेशमा  ने सोमवार को एक साथ पांच बच्चों को जन्म दिया है. महिला शादी के सात साल बाद पहली बार मां बनी है. महिला का पति केरला में मार्बल फिटिंग का काम करता है. पांचों बच्चों का वजन 300 से 660 ग्राम तक है. नवजात बच्चे कमजोर होने के कारण उन्हें जयपुर रेफर किया गया है._


_*कहते हैं कि ऊपर वाला जब देता है तो छप्पर फाड़कर देता है.* ऐसा ही कुछ हुआ है करौली जिले के मासलपुर के पिपरानी गांव निवासी 25 वर्षीया रेशमा के साथ. रेशमा शादी के 7 साल बाद पहली बार मां बनी है. रेशमा ने करौली के एक निजी चिकित्सालय में सोमवार को एक साथ 5 बच्चों को जन्म दिया है. एक साथ पांच बच्चों का जन्म होने से अस्पताल के कर्मचारी भी चकित रह गये. यह खबर तत्काल पूरे अस्पताल में फैल गई. अस्पताल के मरीज और उनके परिजन प्रसूता तथा उसके बच्चों को देखने के लिये ललायित हो उठे._


_अस्पताल की *चिकित्सक डॉक्टर आशा मीणा ने बताया कि रेशमा* ने दो बालक और 3 बालिकाओं को जन्म दिया है. रेशमा के 7 माह में ही प्रसव हो गया और उसने 5 बच्चों को जन्म दिया है. प्रसव के बाद रेशमा की तबीयत ठीक है. हालांकि बच्चे काफी कमजोर हैं. उन्हें पहले करौली के राजकीय हॉस्पिटल मातृ एवं शिशु इकाई स्थित एसएनसीयू वार्ड में भर्ती कराया गया था. वहां से उन्हें जयपुर रेफर कर दिया गया है. फिलहाल उनकी तबीयत ठीक है. रेश्मा को सोमवार को सुबह 8.30 बजे भर्ती कराया था. उसके बाद रेश्मा ने 8.48 पर बच्चों को जन्म दिया._

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
क्योंकि पूरी दुनिया में कारपेट बिछाने से अच्छा है कि हम अपने पैरों में ही जूता पहन लें..