गन्ना किसान व रंगराजन कमेटी से सरकार मिल मालिक कर रहे हैं खिलवाड़ देखें अनुराग सिंह डांगरोड

 गन्ने की कीमत निर्धारण करने के लिए एक बार रंगराजन कमेटी गठित हुई थी। उसने अनुशंसा


  की थी कि पूरी वैल्यू चैन में जो प्रोडक्ट की वैल्यू होगी उसका 70 प्रतिशत किसान को दे दिया जाए बाकी 30 प्रतिशत मिल मालिक को दे दिया जाए लेकिन इसमें शर्त थी कि ये सब बाजार आधारित मूल्य पर हो। एक कुंतल गन्ने से 11 किलो चीनी निकलती है, 30 किलो खोई और लगभग 5 किलो शीरा जिससे 95 प्रतिशत अल्कोहल वाली एक लीटर स्प्रिट बनती है। अब आप अंदाजा लगा सकते है कि इस 95 प्रतिशत अल्कोहल वाली स्प्रिट से कितने रुपए की दारू बनेगी मगर यहां पर एक झोल है । शीरा को राज्य सरकार द्वारा शीरा नियंत्रण अधिनयम द्वारा अपने काबू में कर लिया गया है। मिल को डाटा देने होते है कितना शीरा का उत्पादन हुआ। शीरा का बिक्री पर राज्य सरकार का नियंत्रण है। खुले मेंशीरा बेचना अपराध है। आइए अब थोड़ा सा गणित लगा लेते है। चीनी का थोक मूल्य 40 रुपए औसत मान लेते है।एक कुंतल से 11 किलो चीनी उत्पन्न हुई जिसका मूल्य हुआ 440 रुपया उससे किसान के हिस्से में आए  308 रुपए। 30 किलो हुई खोई जिसका मूल्य हुआ साठ रुपए वहा से किसान के हिस्से आए 42 रुपए और अभी बाकी है शीरा यदि इसको खुले बाजार में बेचा जाए ।खुले मतलब रेगुलेशन हटा दिया जाए तो कम से कम 20 रुपए किलो तो चला ही जायेगा। यानी कि वहा से भी 70 रुपया किसान के पास पहुंचेगा अगर इससे भी आगे एक स्टेप और बढ़ जाए उससे जो दारू बनती है वहां से किसान को हिस्सेदारी मिल जाए तो तो गन्ना मूल्य कहां पहुंचेगा। असली खेल ही शीरा नियंत्रण का है । और हां मैली का मूल्य भी जोड़ लेना। अब आपको समझ में आ जाना चाहिए कि गन्ने का मंत्री अलग क्यों होता है। कोई धान मंत्री या गेहूं मंत्री नही होता है।ऐसी बहुत सारी बाते है जिन्हे सार्वजनिक मंच पर लिखा नही जा सकता है। समझदार को इशारा काफी है । किसान के बालक सिर्फ जाति धर्म में उलझकर जय जय कार ही करेगे । कभी कभी पॉलिसी मैटर भी पढ़ लिया करो।46 पन्नो की रिपोर्ट इंटरनेट पर उपलब्ध है।

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
क्योंकि पूरी दुनिया में कारपेट बिछाने से अच्छा है कि हम अपने पैरों में ही जूता पहन लें..