बड़ोत तहसील दिवस श्रमिक एसोसिएशन का प्रदर्शन के बाद ज्ञापन देवेंद्र चौहान


तहसील दिवस बडौत पर श्रमिक एसोसिएशन बडौत के अध्यक्ष प्रवीण वर्मा के नेतृत्व में बडौत में नौकरी करने वाले श्रमिकों का साप्ताहिक अवकाश की मांग को लेकर जोर दार प्रदर्शन।

प्रशासन को दी चेतावनी आगामी बुधवार साप्ताहिक मार्किट बंदी के दिन 11 जून को मार्केट खुलने पर करेगे नेहरू मूर्ती पर चक्का जाम।

श्रमिक बोले हमे रविवार को भी अवकाश नहीं मिलता। अवकाश मांगने पर दुकान दार काट लेते हैं एक दिन का वेतन।

इससे हम श्रमिक अपने घरेलू काम नहीं निपटा पाते।

बुधवार साप्ताहिक मार्किट बंदी के आदेश हैं। यदी बुधवार को मार्केट बंद हो तो हमें अवकाश मिल जाए गा।

लेकिन बडौत में बुधवार साप्ताहिक मार्किट बंदी के दिन भी मार्केट गुलजार रहता है। इससे हमे अवकाश नहीं मिलता।

यदी 11 जून आगामी बुधवार को साप्ताहिक मार्किट बंदी के दिन भी मार्केट गुलजार रहता है तो हम नेहरू मूर्ती पर प्रदर्शन कर चक्का जाम करेगे।

साप्ताहिक मार्किट बंद रहने से व्यापारियों को भी नुकसान नहीं होगा।

 तथा आम नागरिकों को भी एक दिन सड़कों पर ट्रैफिक जाम अतिक्रमण प्रदूषण से मुक्ति मिलेगी।

उनके साथ सचिन कुमार, भीम सिंह, सोहन शर्मा,अली खान 

फरीद कसार,रवी तोमर, एडवोकेट अमित वसिष्ठ थे।

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
जिंदगी का सफर-ये कैसा सफर कहानी क्या शिक्षा दे रही है वह बता रही है यह संसार ही समुंद्र है दंपत्ति का घर ही उसमें जलयान है यानी समुद्री जहाज है उसमें रहने वाले पति पत्नी मुसाफिर है और बच्चों को सही से इस भवसागर से पार तार देना कर्म नाम से जाना जाता है इसमें सफर कर रहे पति पत्नी पत्नी मोह के कारण डूब जाती है और पति ज्ञान रूपी नौका पर सवार होकर समुद्र से बाहर निकल आता है यह इस कहानी का सारांश या भावार्थ होना चाहिए आगे बता रहे हे सुंदर कहानी बता रहे है मेहरबान खान अपनी जबानी
Image