जिला शामली कैराना उन तहसील रेत माफिया सुप्रीम मनको की उड़ा रहा धज्जियां खनन व प्रशासनिक अधिकारीयो की अनदेखी करनाल मेरठ हाईवे पर रेत जमाखोरी के पहाड़ से प्रमाण कौन लेगा संज्ञान
जिला शामली ऊन कैराना तहसील क्षेत्र में रेत पट्टो की आड़ में खनन माफिया कर रहे हैं यमुना नदी का चीरहरण
- मामौर, मंडावर व नंगलाराई करनाल जमुना पुल आदि क्षेत्रो में एनजीटी के आदेशों की धज्जियां उड़ा रहे रेत माफिया रेत माफिया अवैध रूप से कर रहे हैं रेत की जमाखोरी

कैराना।ऊन तहसील क्षेत्र में रेत माफियाओं के हौसले बुलंद हैं।  पट्टे की आड़ में रेत माफिया रेत की जमाखोरी के साथ ही सुप्रीम गाइडलाइंस का  उल्लंघन और यमुना जी का चीरहरण जिसके चलते एनजीटी के आदेशों की खुली धज्जियां उड़ाई जा रही है। तथा भारी भरकम मशीनों से मामौर, मंडावर व नंगलाराई आदि स्थानो पर अवैैैध रेेेत का कारोबार धडल्ल्ले केेे साथ किया जा रहा है। खनन विभाग सहित शासन प्रशासन आंखें मुंदेे यह सब नजरा देख रहा है।
         वैसे तो सरकारी स्तर पर आवंटित किए जाने वाले रेत के पट्टों पर राष्ट्रीय ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) की गाइड लाइन के अनुरूप सूर्य उदय से सूर्यास्त तक ही खदान की अनुमति दी गई है, लेकिन रेत खनन माफियाओं की मनमानी यमुना नदी के अस्तित्व पर भारी पड़ती नजर आ रही है। कैराना तहसील क्षेत्र के गांव मामौर, मंडावर व नंगलाराई आदि में वैध पट्टे की आड़ में कुछ ऐसा ही खेल चल रहा है। माफियाओं ने तमाम नियम-शर्तों को ठेंगे पर रख दिया है और दिन-रात भारी भरकम मशीनों द्वारा यमुना नदी का सीना छलनी किया जा रहा है।
     गांव मामौर में रात के समय में खनन हो रहा है और रेत की चांदी काटी जा रही है। वहीं, भारी भरकम मशीनों जेसीबी व पोर्कलेन से यमुना नदी की जलधारा के अंदर से रेत निकाली जा रही है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि खनन माफिया कितने बेलगाम हो चुके हैं और उन्हें एनजीटी हो या प्रशासन, किसी कार्यवाही का कोई खौफ नहीं रहा है। खनन के काले कारोबार में जुटे माफिया यमुना नदी के अस्तित्व को मिटाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं और वें सरकार को प्रतिदिन भारी राजस्व की हानि भी पहुंचा रहे हैं।
---
यमुना के गहरे कुंड मचाते हैं तबाही
नियमों को धता बताकर यमुना नदी से खनन करने वाले माफियाओं के कारनामे किसानों के लिए तबाही का सबब बनते हैं, क्योंकि माफिया यमुना नदी की बहती जलधारा के अंदर से भारी भरकम मशीनों जेसीबी व पोर्कलेन के माध्यम से खनन कर गहरे कुंड बना देते हैं और जब-तब पानी आता है, तो यमुना नदी में भूमि कटाव के कारण किसानों की फसलों को भारी नुकसान पहुंचता है। पूर्व में यह दंश किसान झेल चुके हैं। इसके अलावा यमुना नदी में हादसे की आशंका भी बनी रहती है। और बरसात के दिनों में क्षेत्र में बाढ़ की आशंका भी तटवर्ती बाशिंदों को सताने लगती है।
---
धड़ल्ले से दौड रहे रेत के  ओवरलोड वाहन
 क्षेत्र में संचालित खनन प्वाइंट से खुलेआम रेत के ओवरलोड वाहनों को निकाला जा रहा है,जो सड़कों को तोड़ रहे हैं। दिन रात सड़कों पर दौड़ने वाले रेत के इन ओवरलोड वाहनों की ओर से शासन-प्रशासन व परिवहन विभाग के अधिकारियों ने नजरें फेर रखी हैं। ईमानदारी का ताज लगाए बैठे एआरटीओ शामली की आंखों से सामने ही ओवरलोड वाहन सड़कों पर फर्राटे भरते हैं,लेकिन उनके कानों पर जूं तक नहीं रेंगती है।
Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
भ्रष्टाचार के विरुद्ध दुनिया का सबसे लंबा धरना मास्टर विजय सिंह महान युवा अब बूढ़ा हो चला थक गई आंखें इंतजार करते क्या कभी यह इंतजार खत्म होगा कोई ईमानदार शासक आएगा इस महान चेतन पर दृष्टिपात करेगा
Image
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
कैराना कलस्यन खाप भवन भाजपा गांव चलो अभियान की समीक्षा करते स्थानीय नेता एवं कार्यकर्ता
Image
कर्मशील भारतीके नाटक क्रांति सूर्य ज्योतिराव फुले पर नंदलेश ने की परिचर्चा गोष्ठी
Image