मेहरबान खान जबलपुर संस्कारधानी के संस्कारों के अनुरूप मानवतावादी भाई सतीश तिवारी जी ने एक मुस्लिम बहन जब हनुमानताल में डूब रही थी तब बिना किसी  भेदभाव के छलांग लगाकर इस बहन को बचाया

मेहरबान खान जबलपुर संस्कारधानी के संस्कारों के अनुरूप मानवतावादी भाई सतीश तिवारी जी ने एक मुस्लिम बहन जब हनुमानताल में डूब रही थी तब बिना किसी  भेदभाव के छलांग लगाकर इस बहन को बचाया वो भी  ऐसे दौर में ज़ब देश के प्रधानमंत्री कपड़े से लोगों का धर्म पहचानने की बात करते है मगर सैल्यूट करता हु तिवारी जी उन्होंने नकाब में भी मोहब्बत भरी नज़र से इंसानियत को देखा,, आज दावे कह सकता नफ़रत चाहे जितनी फैलाई जाए मगर बोलबाला हमेशा मोहब्बत ,इंसानियत , भाईचारे का रहेगा 
👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻


Popular posts
संविदा व ठेके पर नगर पालिका में सफाई कर्मियों को परमानेंट कराने हेतु मुख्यमंत्री के नाम डीएम को ज्ञापन अरविंद झंझोट
Image
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
महर्षि बाल्मीकि पर आप नेता ने की अभद्र टिप्पणी बाल्मीकि समाज में रोष अरविंद झंझोट
Image
सफाई कर्मचारियों को नियमित कराने के लिए मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन
Image
बागपत पुलिस पीड़ित पिता का थप्पड़ से स्वागत प्रभारी लाइन हाजिर
Image