पत्रकार भी इंसान है उनके भी परिवर है सोंचिए सरकार* कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए देश की जनता अपने घरों में रह कर कोरोना वायरस को हराने के लिए युद्ध कर रही है । अरे भाई अंधे बहरे प्रशासन की आंखों से देखने वाली और कानों से सुनने वाली काहिल सरकार से क्यों गिड़गिड़ा रही हो अब इन शक्तिशाली लोगों का पाप का घड़ा भरकर फूटने ही वाला है अधिक समय नहीं लगेगा अधिक से अधिक दो या ढाई वर्ष में पूरी दुनिया में वह होगा जो यह स्वार्थी लोग ही संग्रही लोग सोच भी नहीं सकते ऐक चाल इन दुनिया के शक्तिसाली लोगों ने जिसमें पूंजीपति बडे नौकरशाह बड़े नेता बड़े वैज्ञानिक डॉ इन लोगों ने मिलकर दुनिया के लिए एक षड्यंत्र रचा है परंतु इससे आगे का षड्यंत्र अब कुदरत रचेगा जिसे यह लोग झेल नहीं पाएंगे गरीब आदमी झेल जाएगा इन लोगों को खेलने तो जितना खेलना है आखिर में खिलाड़ी तो कुदरती ही है उसके साथ जब खेलेंगे जब पता चलेगा खेल कैसा होता है

*पत्रकार भी इंसान है उनके भी परिवर है सोंचिए सरकार*


कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए देश की जनता अपने घरों में रह कर कोरोना वायरस को हराने के लिए युद्ध कर रही है । अरे भाई अंधे बहरे प्रशासन की आंखों से देखने वाली और कानों से सुनने वाली काहिल सरकार से क्यों गिड़गिड़ा रही हो अब इन शक्तिशाली लोगों का पाप का घड़ा भरकर फूटने ही वाला है अधिक समय नहीं लगेगा अधिक से अधिक दो या ढाई वर्ष में पूरी दुनिया में वह होगा जो यह स्वार्थी लोग ही संग्रही लोग सोच भी नहीं सकते ऐक चाल इन दुनिया के शक्तिसाली लोगों ने जिसमें पूंजीपति बडे नौकरशाह बड़े नेता बड़े वैज्ञानिक डॉ इन लोगों ने मिलकर दुनिया के लिए एक षड्यंत्र रचा है परंतु इससे आगे का षड्यंत्र अब कुदरत रचेगा जिसे यह लोग झेल नहीं पाएंगे गरीब आदमी झेल जाएगा इन लोगों को खेलने तो जितना खेलना है आखिर में खिलाड़ी तो कुदरती ही है उसके साथ जब खेलेंगे जब पता चलेगा खेल कैसा होता है


लेकिन घातक कोरोना वायरस से देश की जनता को बचाने के लिए डॉक्टर, पुलिस, सफाई कर्मचारी खतरों के बीच संघर्ष कर रहे है।


कोरोना वायरस से सम्बंधित पल पल की खबरों को जनता तक पहुचाने और जनता को जागरूक करने के लिए पत्रकार बिना किसी सुरक्षा कवच के जिस तरह से सड़कों पर घूमघूम कर भूखे प्यासे रह कर अपनी जिम्मेदारियों का निर्वाहन कर रहे है वो भी अपने आपमे जान को जोखिम में डालने वाली ज़िमेदारी निभाने की एक नज़ीर है।


लेकिन यहां अफसोस कि बात ये है कि कोरोना वायरस के खतरे के बीच अपनी जिम्मेदारियों का निर्वाहन करने वाले डॉक्टर,पुलिस व नगर निगम के कर्मियों को सरकार द्वारा तो सुविधाए दी जा रही है लेकिन संसाधन विहीन पत्रकारों को कोरोना वायरस के खतरे से बचने के लिए सरकार द्वारा न तो सेनेटाइजर, मास्क ही उपलब्ध कराए गए और न ही उनके व उनके परिवार के लिए कोई सुरक्षा बीमा ही किया गया और न ही खाद्य सामग्री ही उपलब्ध कराए जाने की अभी तक सरकार द्वारा कोई घोषणा की गई है।


पत्रकार उस स्थान के आसपास भी जा रहे है जहां कोरोना के मरीज़ों का इलाज हो रहा है पत्रकार लोगो को जागरूक करने के लिए गन्दी बस्तियों में भी जा रहा है और बन्द बाज़ार के बीच सूनी सड़को पर भी भूखा प्यासा मेहनत कर पल पल की खबरे देश की जनता तक पहुचा रहे है।


संसाधन विहीन कम वेतन में अपनी ज़िम्मेदारी का निर्वाहन करने वाले पत्रकारों की सुविधाओं और सुरक्षा के बारे भी सरकार को विचार करना चाहिए।


संसाधन विहीन असुरक्षित होकर अपनी ज़िम्मेदारी का पूरी तरह से निर्वाहन कर रहे  पत्रकार भी इंसान है उनके भी परिवार है।


पत्रकारों की सुरक्षा पर भी विचार कीजिए साहब


Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
13 दिसंबर स्वामी विद्यानंद गिरी महाराज की पुण्यतिथि प्रवर्तन योद्धा मोहन जोशी के जन्मदिन पर विशेष महावीर संगल जी
Image
अकबर महान पढा पर एक सच्चाई जो छुपाई गई देखें इस लेख में पवन सिंह तरार
Image
सावधान देश को अन देने वाला किसान सम्मान देने वाला पहलवान दोनों की आंखों में आंसू गैरों पे करम अपनों पर सितम
Image
इस लड़की का नाम अमृता कुमारी और पिता का नाम ब्रह्मा प्रसाद है कुशीनगर के पास जंगल चौरी गांव की रहने वाली है कोई लड़का बहका कर सिवान लेकर चला गया
Image