एसएसपी मुजफ्फरनगर में फर्जी पत्रकार बता कर कुछ पत्रकारों को गिरफ्तार किया है और संपादक को वांछित बता जा रहा है अब देखना यह है भारत सरकार द्वारा रजिस्टर्ड अखबार केसंपादक का भी कुछ अधिकार क्षेत्र है या नहीं अगर नहीं है तो भारत सरकार को यह सभी रजिस्ट्रेशन कैंसिल कर देनी चाहिए और सारी जिम्मेदारी मीडिया की भी एसएसपी साहब को ही दे देनी चाहिए क्योंकि हम देख रहे हैं किन्ही अखबारों के एक ही शहर में 10 10 15 15 पत्रकार घूम रहे हैं और वह सब असली पत्रकार कहे जाते हैं अब असली नकली सूचना वहां का भेद करना सूचना प्रदान करने वाले का भेद कैसे हो कैसे निकाला जाए यह मुजफ्फरनगर कप्तान से बेहतर कोई नहीं जान सकता और अपने अधिकारों के लिए ऐसे सभी संपादकों को एक होकर अदालत में जाना चाहिए और अपने अधिकारों को जानना चाहिए इसमें शांति या दबाव में आकर काम नहीं चलेगा हो सकता है एसएसपी साहब ठीक कह रहे हो परंतु यह तो संपादक के अधिकार को भी अपने हाथों में लेकर उन्हें भी वांछित बता रहे हैं यह सोचने का विषय है या फिर भारत सरकार सोच समझकर आर एन आई नंबर नहीं देती या फिर एसएसपी साहब की एलआईयू विभाग सही से जांच नहीं करता दोषी कौन है इसमें अगर संपादक भी वांछित है मेरे अपने व्यक्तिगत विचार है परंतु भारत के संपादकों को यह विचार अब सर्व गत करने चाहिए


Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
दुनिया व आज के संदर्भ में भारत की तुलना छोटा बच्चा समझ जाए पर नासमझ नेता नहीं नदीम अहमद
Image