वैज्ञानिक बहुत बुद्धिमान होते हैं परंतु किसी भी चीज का निर्माण चक्रवात की तरह घूमने से नहीं होता मंथन से होता है अगर किसी चीज का निर्माण हो रहा हो तो उसका पता इसी बात से लगाया जा सकता है कि वहां मंथन की क्रिया चल रही है या नहीं मंथन प्रिया का मतलब है बार-बार एक दिशा से फिर दूसरी दिशा में विपरीत दिशाओं में घूमना दाएं से बाएं बाएं से दाएं आगे पीछे इसको मंथन ओम निर्माण की प्रक्रिया कहते हैं वैज्ञानिक एक्साइड घूमने वाले चक्रवात को इसी तरह का निर्माण बता रहे हैं ऐसा हो नहीं सकता चक्रवात से नष्ट तो हो सकता है निर्माण नया निर्माण बन नहीं सकता यह प्राकृतिक सत्य है निर्माण मंथन के द्वारा होता है और मंथन कभी भी एक तरफ नहीं चलता तर्क और वितर्क को भी मंथन कहते सकते हे निर्माण समझने के लिए बड़े विस्तार में जाना पड़ता है इन लोगों की समझ कोरोनावायरस पर समझ खत्म हो गई हे 520 प्रकाश वर्ष दूर चल रही प्रक्रिया को यह क्या समझेंगे


Popular posts
शामली पुलिस अधीक्षक की उप निरीक्षक तबादला एक्सप्रेस दर्जनों दरोगा इधर से उधर मेहरबान खान
Image
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
शामली भाजपा नेता अरविंद संगल को कोर्ट ने भेजा जेल मेहरबान खान
Image
संजीव बालियान के भाई राहुल कुटबी का निधन 4 दिन में दो भाइयों की मौत
Image
नव दलित लेखक संघ की मासिक गोष्टी का आयोजन बुध विहार खानपुर नई दिल्ली में बंशीधर नाहरवार की अध्यक्षता में संपन्न
Image