पत्रकारिता में आती गिरावट सहारनपुर उगाही मैं नाकाम पत्रकार ने फोड़ा शिक्षक का सर हुई एफ आई आर दर्ज पत्रकार दैनिक जागरण का बताया जा रहा है मेहरबान खान

उगाही के लिए अब सिर फोड़ने लगे हैं पत्रकार! Posted on October 1, 2020 ब्लैकमेलर पत्रकार अब खूंखार होने लगे हैं। उगाही के लिए सिर फोड़ने में भी गुरेज नहीं कर रहे हैं। सहारनपुर में एक शिक्षक को इन उगाहीबाज पत्रकारों की गुंडई का शिकार होना पड़ा। आरोपी पत्रकारों में से एक विनोद दैनिक जागरण का रिपोर्टर बताया जाता है। सहारनपुर में दैनिक जागरण वाले जमकर उगाही कर रहे हैं और प्रबंधन सब जान कर भी आंख मूंदे है। पूरा घटनाक्रम इस एफआईआर में दर्ज है- सहारनपुर में बडगांव के अम्बैहटा मोहन गांव में प्राथमिक विधालय मे तैनात एक अध्यापक को दो कथित पत्रकारों ने सिर में ईंट मारकर गम्भीर रूप से घायल कर दिया। अध्यापक ने तहरीर में बताया कि दोनों पत्रकार पिछले कुछ दिन से सरकारी रिकार्ड दिखाने की मांग कर रहे थे। मना करने पर गाली गलौच पर उतर आये और फिर पैसे की मांग करने लगे। अध्यापक ने पैसे देने से मना कर दिया तो दोनों कथित पत्रकारों ने अध्यापक के सिर में ईंट से वार कर गम्भीर रूप से घायल कर दिया और मौके से फरार हो गये। विद्यालय से समस्त स्टाफ घायल अध्यापक पवन कुमार को लेकर थाने पहुंचे। दोनों कथित पत्रकारों के खिलाफ तहरीर दी है। पुलिस ने एक आरोपी को हिरासत मे ले लिया है। घायल अध्यापक को मेंडिकल के लिए चिकित्सालय भेज दिया गया है। ----


Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
क्योंकि पूरी दुनिया में कारपेट बिछाने से अच्छा है कि हम अपने पैरों में ही जूता पहन लें..