किसान और सरकार में वार्ता विफल सभी किसान संगठनों ने संयुक्त रुप से 8 दिसंबर को भारत बंद का किया ऐलान देवेंद्र चौहान


नयी दिल्ली- किसानों की सरकार से वार्ता आज फिर विफल हो गई, पांचवे दौर में की वार्ता में कोई हल नहीं निकल पाया, जिसके बाद किसानों ने 8 दिसंबर को भारत बंद करने का ऐलान कर दिया है और सरकार ने अब 9 दिसंबर को पूर्वाहन 11:00 छठे दौर की वार्ता करने का निर्णय लिया है। 



आज केंद्रीय मंत्रियों और किसान नेताओं के बीच चली कई घंटे की वार्ता के बाद भी कोई हल नहीं निकल पाया, केंद्र सरकार किसान नेताओं को इस बात पर राजी करना चाहती थी कि कृषि विधेयकों  में कुछ संशोधन कर दिया जाएगा लेकिन किसान नेता तीनों विधेयकों को पूरी तरह वापस लेने पर अड़े हुए हैं। किसान नेताओं ने बताया कि सरकार ने यह भी कहा कि एमएसपी के बारे में बाद में विचार कर लिया जाएगा लेकिन किसानों नेताओं ने स्पष्ट किया कि एमएसपी का फैसला भी इसी बैठक में किया जाएगा।  किसान नेताओं ने बताया कि सरकार संशोधन को तैयार है लेकिन जब तक विधेयक वापस नहीं होंगे किसान का भला नहीं होगा। किसान नेताओं ने 8  दिसंबर को भारत बंद को जोर-शोर से करने का ऐलान किया है ,इसी बीच सरकार और किसान नेताओं में तय हुआ है कि 9 दिसंबर को 11:00 बजे किसान नेताओं से सरकार की फिर वार्ता होगी ,सरकार ने किसान नेताओं से अपने प्रस्ताव लिखित में देने के लिए भी कहा है फिलहाल किसान आंदोलन जारी है।

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
भ्रष्टाचार के विरुद्ध दुनिया का सबसे लंबा धरना मास्टर विजय सिंह महान युवा अब बूढ़ा हो चला थक गई आंखें इंतजार करते क्या कभी यह इंतजार खत्म होगा कोई ईमानदार शासक आएगा इस महान चेतन पर दृष्टिपात करेगा
Image
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
कैराना कलस्यन खाप भवन भाजपा गांव चलो अभियान की समीक्षा करते स्थानीय नेता एवं कार्यकर्ता
Image
कर्मशील भारतीके नाटक क्रांति सूर्य ज्योतिराव फुले पर नंदलेश ने की परिचर्चा गोष्ठी
Image