काशी हजारों साल पुराने सैकड़ों हिंदू मंदिर आक्रमणकारियों के कारण तो कहीं नहीं घरों में छुपाए गए थे

M  आतात्तियों के हमलों से बचाने के लिए कहीं घरों की


चारदीवारी मैं तो नहीं छिपा लिए थे हिंदुओं ने यह प्राचीन मंदिर देश पर हजारों सालों से हमले होते रहे हैं और मुसलमान हमलावरों के सीधे हिंदू मंदिर ही

निशाना हुआ करते थे कहीं इस कार और मंदिर टूटने के डर से उस समय हिंदुओं ने अपने मंदिरों को बचाने के लिए उन्हें घरों के अंदर तो नहीं ले लिया था ऐसा ही लग रहा है क्योंकि मंदिर हमेशा से ही हिंदू आस्था के केंद्र है 

इससे मंदिर में रहने वाली पुजारी मैं देखभाल करने वाले लोगों का गुजारा भी होता है यह आमदनी का स्रोत पीता तो कोई भी इंसान बिना भय के आमदनी के स्रोत को नष्ट नहीं करना चाहेगा क्योंकि रहने का और गुजर-बसर का साधन होते हुए भी उसे


छुपा लेना यह समझ से परे लग रहा है और इसका मुख्य कारण चाहे जो भी रहा हो परंतु प्रति कैसा हो रहा है आक्रमणकारियों के वैसे ही भयभीत होकर मंदिरों के ऊपर घरों का निर्माण किया गया जिससे मंदिर बचे रहे

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
भ्रष्टाचार के विरुद्ध दुनिया का सबसे लंबा धरना मास्टर विजय सिंह महान युवा अब बूढ़ा हो चला थक गई आंखें इंतजार करते क्या कभी यह इंतजार खत्म होगा कोई ईमानदार शासक आएगा इस महान चेतन पर दृष्टिपात करेगा
Image
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
कैराना कलस्यन खाप भवन भाजपा गांव चलो अभियान की समीक्षा करते स्थानीय नेता एवं कार्यकर्ता
Image
कर्मशील भारतीके नाटक क्रांति सूर्य ज्योतिराव फुले पर नंदलेश ने की परिचर्चा गोष्ठी
Image