प्रयागराज डॉ प्रीति गुप्ता की पुण्य स्मृति में कोविड-19 पर व्याख्यान कार्यक्रम अमित कुमार गुप्ता


          


                

  डॉ प्रीति गुप्ता की पुण्य-स्मृति के अवसर पर कोविड-19 की बढ़ती जटिलताओं पर व्यख्यान कार्यक्रम सम्पन्न


"आज मेरे हाथ कांप रहे है, उन्हीं की श्रद्धांजलि में मुझे आना पड़ा" - पद्मश्री डॉ. राज बवेजा



प्रयागराज । शहर के जाने-माने चिकित्सा प्रतिष्ठान प्रीति हॉस्पिटल व प्रीति रिसर्च एंड चैरिटेबल ट्रस्ट की संस्थापिका 

डॉ. प्रीति गुप्ता की पुण्य-स्मृति पर एसोसिएशन के सभी चिकित्सक बन्धुओं ने उनकी प्रतिमा पर फूल चढ़ा कर, भावभीनी 

श्रद्धांजलि दी । बता दे -  विगत 22 जुलाई को उनका निधन हुआ था। अचानक आई उनकी मृत्यु की सूचना से सभी 

चिकित्सक बन्धु समुदाय अत्यंत दुःखित था।  कार्यक्रम के दौरान हर जुबान पर डॉ. प्रीति गुप्ता का नाम और उनसे जुड़े 

किस्से थे । कोई यह यकी नही कर पा रहा था कि, मैम अब हमारे बीच नही है । 


इस दौरान पद्मश्री डॉ. राज बवेजा ने उनके साथ बीते पलो की चर्चा करते हुए बैठी आवाज़ और नम आंखों से कहा कि - 

"आज मेरे हाथ कांप रहे है, उन्हीं की श्रद्धांजलि में मुझे आना पड़ा" । 



इस  अवसर पर समस्त गुप्ता परिवार भी उपस्थित रहा । स्व० डॉ. प्रीति गुप्ता की छोटी बहू डॉ. रितु गुप्ता ने अपनी सांस 

की कर्मठता और सेवाभाव भरे जीवन पर  प्रकाश डाला। वही बड़ी बहू डॉ. आंचल गुप्ता और बड़े बेटे डॉ. अमित गुप्ता ने 

सभी अतिथियों का द्वार पर स्वागत किया । 


कोविड-19 की बढ़ती जटिलताओं पर मुख्य अतिथि का व्यख्यान कार्यक्रम सम्पन्न


प्रयागराज । आज रविवार 21 मार्च को स्व० डॉ. प्रीति गुप्ता की पुण्य-स्मृति के अवसर पर इलाहाबाद नर्सिंग होम एंड 

प्राइवेट डॉक्टर वेलफेयर एसोसिएशन व एलमियूनि वेलफेयर एसोसिएशन एमएलएम मेडिकल कॉलेज के संयुक्त 

तत्वाधान में पोस्ट कोविड-19 की बढ़ती जटिलताओं और कोविड-19 के टीकाकरण में पर विशेष चर्चा, देर रात तक चली । 

कार्यक्रम के मुख्यवक्ता के रुप में बीएचयू के पल्मनोरी मेडिसीन विभाग के पूर्व मुख्य विशेषज्ञ डॉक्टर जे. के. सामारिया ,

मुख्य आतिथि पद्मश्री प्रोफेसर राज बवेजा रही , विशिष्ठ अतिथि के रूप मे प्रयागराज मुख्य चिकित्सा अधिकारी 

डॉ० प्रभाकर राय , डॉ. ए.के. गुप्ता, डॉ. एस. पी. सिंह, डॉ. आलोक मिश्रा, डॉ. अनिल सरोज, डॉ. पीयूष , डॉ. अवनीश 

सक्सेना, डॉ. सुशील कुमार सिन्हा, डॉ. देवेश मौर्या, डॉ. बी. पॉल, डॉ. आशीष टण्डन आदि कार्यक्रम में उपस्थित रहे । 

कार्यक्रम का संचालन  डॉक्टर व्यंजना पांडे ने किया । 


इस अवसर पर विश्वव्यापी कोविड-19 करोना जैसी महामारी के कारण लॉकडाउन से उत्पन्न समस्याओं के समाधान में 

विशेषकर गरीबों श्रमिकों जरूरतमंदों की मदद में खुद को जोखिम में डालकर जनसेवा के लिए अपनी क्षमता योग्यता 

एवं हुनर के माध्यम से सकारात्मक योगदान देने वाले चिकित्सकों को एसोसिएशन द्वारा करोना योद्धा सम्मान से 

सम्मानित भी किया गया । कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डॉक्टर जे. के. सामारिया ने कोविड-19 से जुड़ी गम्भीरताओं एवं 

कोविड -19 के टीके से सम्बंधित सम्पूर्ण जानकारी अपने व्यख्यान में दिया। उन्होंने इस बात पर जोर देते हुए कहा कि 

कोरोना एक अतिगम्भीर त्रासदी है, जिससे सम्पूर्ण विश्व के आमजन का जन जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। कोविड-19 

मानव इतिहास की सबसे बड़ी आपदा बन कर उभरी है। भारत मे इसका नियंत्रण बहुत ही सकुशलता एवं धैर्य के साथ 

किया गया है। जिस कारण से इस बीमार का प्रसार भारत मे अन्य देशों की तुलना में बहुत कम गति से हुई। भारत ने 

विश्व पटल पर कोविड-19 का टीका बनाकर अपनी प्रतिष्ठा स्थापित की है तथा पूरी दुनिया को दिखाया है कि इस 

महामारी के दौरान ही श्रेष्ठतम स्वास्थ्य अनुसंधान एवं स्वास्थ्य नियंत्रण का एक अनूठा उदाहरण प्रस्तुत किया। उन्होंने 

टीके से सम्बंधित समस्त भ्रांतियों को पूरी तरह से समझाया और उसके बारे में विस्तृत विलेख प्रस्तुत किया। उन्होंने बताता 

की कोविड-19 का टीका अत्यन्त प्रभावशाली, सुरक्षित और सभी के लिए अत्यंत जरूरी है। 


कार्यक्रम के दौरान इलाहाबाद नर्सिंगहोम एंड प्राइवेट डॉ. वेलफेयर एसोसिएशन व एमएलएम एलुमिनी एसोसिएशन के सभी 

सम्मानित चिकित्सा बन्धु उपस्थित रहे । कार्यक्रम के अंत मे डॉ. आशीष टण्डन ने सभी आये चिकित्सक बन्दुओं को धन्यवाद 

देते हुए कार्यक्रम के समापन्न की घोषणा की ।



सूचनाकर्ता

अमित कुमार गुप्ता

9451847645

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
क्योंकि पूरी दुनिया में कारपेट बिछाने से अच्छा है कि हम अपने पैरों में ही जूता पहन लें..