क्या सपा क्या भाजपा राजनीतिक हमाम में सभी नंगे हैं इसकी बानगी है कर्तव्यनिष्ठ अमिताभ ठाकुर जबरदस्ती रिटायरमेंट

 नमक का दरोगा



अमिताभ ठाकुर को जबरदस्ती रिटायर करना यह बताता है कि 


राजनीति मदारी का खेल है


मदारी फ़िल्म का ही डायलॉग है कि राजनीति हमारा फैमिली व्यापार है ।

जब हम सत्ता में रहते हैं तब हम कॉन्ट्रैक्ट देते हैं और जब विपक्ष में होते हैं तब हम कॉन्ट्रैक्ट लेते हैं।


जब सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव आईपीएस अमिताभ ठाकुर को फ़ोन करके धमकाते हैं कि भूल गए उस दिन पार्टी में जब हमारे लोग तुम्हे घसीट कर कमरे में ले गए थे तो हमने ही छुड़ाया था भूल गए ....


ज्यादा अवकात से ऊपर मत उठो अमिताभ ठाकुर नही तो परेशानी में पड़ जाओगे  ..


इस पूरी वार्ता में अमिताभ ठाकुर यही कहते रहे कि  आदेश करें सर् ..


अमिताभ ठाकुर ने जब इस रिकॉर्डिंग को थाने में पेशकर मुलायम सिंह के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया तो भाजपा के तत्कालीन प्रदेश अध्यक्ष श्री लक्ष्मीकांत बाजपेयी ने अमिताभ ठाकुर की घोर आलोचना की और अमिताभ ठाकुर को हद में रहने की नसीहत तक दे दिए....

सोचिये बाजपेयी जी भाजपा में थे लेकिन विरोध अमिताभ ठाकुर का किये ....


सपा सरकार में हमेशा सपा पार्टी के द्वारा किये जा रहे गलत कदमो का उन्होंने भरपूर विरोध किया और जिसके कारण उन्हें बहुत सारी समस्यायों का सामना करना पड़ा....


छात्र हित के लिए हमेशा सत्ता के दुरुपयोग के खिलाफ खड़े रहे और हर मामले में त्वरित प्रतिक्रिया देते रहे ...


2015 में उनकी पत्नी नूतन ठाकुर भाजपा जॉइन कर लेती हैं एक साधारण कार्यकर्ता की तरह , भाजपा उनका कोई स्वागत नही करती है क्योंकि शायद भाजपा को पता था कि भले ही नूतन ठाकुर भाजपा जॉइन कर ली हैं लेकिन इनके पति के  ईमानदारी में कोई बदलाव नही आएगा और ऐसे ईमानदार लोग हमारे लिए खतरा होंगे....


यह जनता अच्छे से जानती है क्यों खतरा होंगे..?


फिर 2020 में खबर आई कि नूतन ठाकुर ने आम आदमी पार्टी जॉइन कर ली लेकिन जैसा अमिताभ ठाकुर ने नूतन ठाकुर को भाजपा जॉइन करते समय कहा था वैसा ही उन्होंने उस वक्त भी कहा कि


मैं अपनी निष्ठा को बदल नही सकता आप कोई भी निर्णय लेने के लिए स्वतंत्र है लेकिन मुझसे किसी प्रकार के सहयोग की आशा न करें ....


भाजपा सरकार भी जानती थी कि इस व्यक्ति की कर्तव्यनिष्ठा हमे समस्या में डाल सकती है ।

इसलिए निर्णय लिया गया कि अब इन्हें जबरदस्ती निकाल दिया जाय ......


और निकाल दिया गया....


मुबारक हो अमिताभ ठाकुर जी आप किसी भी कोठे पर नही नाचे .

मुबारक हो आपने जब तक ड्यूटी की सीना ठोंक के किये...


आप न ही अपनी पत्नी के दबाव में झुके और न ही राजनैतिक पार्टियों के दबाव में आये ...


किसी भी  राजनैतिक पार्टी के समर्थक व्यक्ति के लिए आप सबसे बुरे  व्यक्ति होंगे लेकिन हम जैसे  राष्ट्र समर्थक लोगों के लिए आप नमक के दरोगा है .....


भविष्य में क्या होगा नही कहा जा सकता ..


अगर आप राजनीति जॉइन करते हो तो हम आपका पार्टी अनुसार आलोचना या प्रसंशा भी करेंगे लेकिन अगर नही करते तो सोशल मीडिया पर आपकी पत्नी को निशाना बनाकर आपकी छवि को  गलत रूप में प्रस्तूत किया जा सकता है,  

लेकिन एक अधिकारी के तौर पर आप हम सबके आदर्श हो , हमारे गर्व हो ...और रहोगे 


सोशल मीडिया का कोई भी प्रोपेगेंडा हमे आपके चरित्र पर शक करने को मजबूर नही कर सकता...


खैर राजनीति ने फिर साबित किया है कि उसे जनता का नौकर नही बल्कि अपना  व्यक्तिगत नौकर चाहिए....


वैसे भी राजनीति में शुचिता के लिए कोई स्थान नही होता...

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
भाई के लिए बहन या गर्लफ्रेंड स्पेशल कोन सच्ची कहानी पूजा सिंह
Image