होली की उमंग एक कविता पूजा सिंह दिल्ली के साथ

 होली की उमंग



खुशियों का त्योहार है होली

रगों का नाम है होली

अपनो के संग है होली

रंगों का बौछार है होली

रगों के संग है होली

दुश्मनों का नाम है होली

जिससे बदनाम भी है होली

रंगों का बहार है होली

रंगों का पैगाम है होली

अपनो के संग हो होली

गीतो की शान है होली

दुश्मनो से प्रेम बोल है होली

गुलाल का उमंग है होली

अपनो का अरमान है होली

रंगों की शान है होली

अपनो के संग हो होली

रंगों का पैगाम है होली

अपनो का उमंग है होली

खुशियों का त्योहार है होली


पूजा सिंह

दिल्ली

9013113172



Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
भाई के लिए बहन या गर्लफ्रेंड स्पेशल कोन सच्ची कहानी पूजा सिंह
Image