बाल्मीकि समाज अपने हकों के लिए जागरूक हो इसके लिए चलाया जा रहा है जागरूक अभियान अरविंद झंझोट

  वाल्मीकि समाज अपने हकों के प्रति जागरूक हो इसके लिए चलाया अभियान अरविंद झंझोट कस्बा शाहपुर  जिला 


मुजफ्फरनगर आज दिनांक 11 मार्च 2021 दोपहर 1:00 बजे मोहल्ला गडरिया बाल्मीकि कॉलोनी में वाल्मीकि दलित समाज की एक बैठक रामपाल वाल्मीकि के निवास पर हुई बैठक की अध्यक्षता मास्टर ओमपाल सिंह  नेकी  संचालन कमल मेहरा ने किया मुख्य अतिथि राष्ट्रीय वाल्मीकि समाज प्रतिनिधि मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष अरविंद झंझोट शामिल रहे बैठक में राष्ट्रीय अध्यक्ष अरविंद  झंझोट ने अपने संबोधन में कहा कि हमारा संगठन वाल्मीकि समाज को जागरूक करने के लिए और समाज के लोगों को अपने हकों के प्रति जागरूक करने के लिए उत्तर प्रदेश में एक अभियान चलाया है जिसके तहत आज कस्बा शाहपुर  जनपद मुजफ्फरनगर  में वाल्मीकि दलित समाज के बीच शाहपुर मैं आया हूं आज वाल्मीकि समाज बेरोजगारी के कारण आर्थिक तंगी से व जनसमस्याओं समस्याओं से जूझ रहा है वाल्मीकि समाज में बीए व एम शिक्षा करने के उपरांत उन्हें रोजगार नहीं मिल पा रहा है वाल्मीकि दलित समाज के शिक्षित बेरोजगार युवाओं व युवतियों को शिक्षा के आधार पर रोजगार दिलाए जाने के लिए और उत्तर प्रदेश स्थानीय निकायों में संविदा सफाई कर्मचारियों को नियमित कराने एवं इन संविदा सफाई कर्मचारियों को को प्रतिमाह वेतन ₹35000 दिलाने और इनका सातवें वेतन आयोग के अनुसार की गई वेतन वृद्धि वह बोनस दिलाए जाने एवं ठेके व्यवस्था में कार्यरत नगर पालिका परिषद में सफाई कर्मचारियों को संविदा मे समायोजित कराने एवं इनका वेतन प्रतिमाह ₹25000 दिलाने कि सरकार से मांग की है बैठक में मास्टर ओमपाल सिंह रामपाल सिंह प्रमोद कश्यप अरुण झंझोट सचिन वाल्मीकि आचार्य राकेश गिरी आदि शामिल रहे भवदीय अरविंद झंझोट मोबाइल नंबर 9457 77 16 39

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
भाई के लिए बहन या गर्लफ्रेंड स्पेशल कोन सच्ची कहानी पूजा सिंह
Image