सिर्फ वीकेंड का बंद रख कारोबारियों को राहत दे सरकार सुमन अग्रवाल महाराष्ट्र

 सिर्फ वीकेंड का बंद रख कारोबारियों को राहत दे सरकार !!


              

प्रदेश कांग्रेस महासचिव सुमन अग्रवाल की मुख्यमंत्री से गुजारिश !!


जगदीश का. काशिकर,

कायदा (लॉ) / नाेकरी (जाॅब) सलाहगार (कन्सलन्टंट) व मुक्त पत्रकार*, महाराष्ट, व्हाटसअप - ९७६८४२५७५७


ठाणे - मुंबई, ठाणे समेत समूचे महाराष्ट्र में कोरोना महामारी की दूसरी लहर के तेजी से बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर राज्य भर में लगाए गए मिनी लाॅकडाउन को लेकर महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस की महासचिव श्रीमती सुमन अग्रवाल ने राज्य की महाआघाड़ी गठबंधन सरकार से अनुरोध किया है कि वह बुरी तरह चौपट हो चुके उद्योग-व्यापार क्षेत्र को राहत  देने के लिए और अगले 25 दिनों तक सब-कुछ बंद रखने के बजाय 30 अप्रैल तक केवल शुक्रवार शाम 8 से सोमवार सुबह 8 बजे तक ही बंद रखें।

            

कांग्रेस भी राज्य की महागठबंधन आघाड़ी सरकार का महत्वपूर्ण घटक होने के चलते ताजा लाॅकडाउन से संकट में फंसे उद्योगियों-व्यापारियों की समस्याओं को लेकर ठाणे व्यापारोद्योग महासंघ के प्रतिनिधिमंडल ने श्रीमती अग्रवाल को ज्ञापन देकर उनसे इस संबंध में सहानुभूतिपूर्वक विचार किए जाने का आग्रह किया है। प्रतिनिधिमंडल में महासंघ के अध्यक्ष देवीलाल श्रीश्रीमाल, मानद सचिव भावेश मारू, सदस्य विकास अच्छा, रामप्रकाश अग्रवाल आदि का समावेश था।

           

ज्ञापन में कहा गया है कि पिछले करीब पूरा साल भर कोविड की वजह से उद्योग-व्यापार बंद रहा, जिससे कारोबार क्षेत्र का जबरदस्त नुकसान हुआ है, कई उद्योग-धंधे तो इस वजह से तबाह हो गए। अनलाॅक होने के बाद कुछ महीनों से उद्योग-व्यापार जगत किसी तरह फिर से उठ खड़ा होने की हिम्मत जुटा रहा था कि पुनः मिनी लाॅकडाउन के नाम पर सब-कुछ बंद हो गया, जो न सिर्फ कारोबार क्षेत्र के लिए भारी नुकसानदेह है बल्कि आम नागरिक भी इससे बेहाल हैं।

           

उद्योगियों-व्यापारियों सहित आम जनता के हितों को ध्यान में रखते हुए सुमन अग्रवाल ने राज्य सरकार से गुजारिश की है कि कोविड की दूसरी लहर के बढ़ते संक्रमण पर काबू पाने के लिए जारी आवश्यक सरकारी दिशानिर्देशों का पालन करना हम सभी के लिए अनिवार्य है, आखिर यह सब हमारे स्वास्थ्य से जुड़ा अहम मुद्दा है, पर उद्योग-व्यापार क्षेत्र भी अत्यंत महत्वपूर्ण आर्थिक रीढ़ है और इसे निश्चित तौर पर सहानुभूतिपूर्वक विचार कर राहत प्रदान करनी चाहिए। मौजूदा मिनी लाॅकडाउन में ई-काॅमर्स, आॅनलाइन बिजनेस आदि को तो छूट दी गई है, पर छोटे कारोबारी इस लाॅकडाउन के बोझ तले नाहक दबे-कुचले जा रहे हैं। पहले ही तबाह हो चुके अपने कारोबार को लेकर वे अपनी दुकान का किराया भरें, कामगारों का वेतन दें, विविध कर भरें, बिजली का बिल-लोन की किश्तें-ब्याज आदि भरें तो आखिर कैसे भरें ?  स्थिति साफ तौर पर बेहद गंभीर है। इसलिए सरकार या तो उनका यह सब टैक्स, बिल आदि माफ कर दे अथवा बतौर मिनी लाॅकडाउन महज वीकेंड का ही बंद रखे।

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
क्योंकि पूरी दुनिया में कारपेट बिछाने से अच्छा है कि हम अपने पैरों में ही जूता पहन लें..