सिंगरौली मध्य प्रदेश सख्त पाबंदी बाहर निकले तो खैर नहीं मोरवा टी आई मनीष त्रिपाठी रिपोर्ट उपेंद्र दुबे

 14 अप्रैल 2021

सिंगरौली मध्य प्रदेश

उपेन्द्र दुबे की रिपोर्ट- 7000217592


सख्त पाबंदियां निकले बाहर तो खैर नहीं- मोरवा टीआई मनीष त्रिपाठी।



सिंगरौली कोरोना के तेज होते संक्रमण के बीच यूं तो डॉक्टर स्वास्थ्यकर्मी और सफाईकर्मी सभी की जिम्मेदारी बढ़ गई है। लेकिन पुलिस की जिम्मेदारी सबसे अहम है।अगर ये कहें कि कोरोना को नियंत्रित करने में सबसे बड़ी भूमिका पुलिस की ही है तो अतिशयोक्ति न होगा।


लॉकडाउन जब से घोषित हुआ उसमें सड़क पर पुलिस ही है जो कानून का उल्लंघन करने वालो को सबक सिखाने की


जिम्मेदारी निभा रही है जिंदगी किसी को उन्हें सुरक्षित रखने के लिए मास्क पहनाना, देह की दूरी का पालन करना, लोगो को क्वारंटीन कराना बाहर यानी गैर जिलों से आने वालों पर नजर रखना। इसके लिए लोगों को प्यार से समझाना और न मानने पर सख्ती करना। ये सब पुलिस के ही जिम्मे ही है वही मोरवा थाना प्रभारी मनीष त्रिपाठी स्टाफ के साथ बाजारों में भ्रमण कर रहे है लाकडाउन का पालन किया जा रहा है कि नहीं इसके लिए भी लगातार मॉनिटरिंग करते रहते है वहीं इसमें जो भी नियम का पालन करते नहीं मिलता उसपर कार्रवाई भी की जा रही है मोरवा थाना प्रभारी निरीक्षक मनीष त्रिपाठी ने मास्क नहीं लगाने वालों पर कार्रवाई भी की और जमकर फटकार लगाते हुए कहा है कि दोबारा बिना मास्क बेवजह घूमते मिले तो खैर नहीं।

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
क्योंकि पूरी दुनिया में कारपेट बिछाने से अच्छा है कि हम अपने पैरों में ही जूता पहन लें..