शामली बजरंग दल ने धूनी शुद्धीकरण यज्ञ द्वारा कोरो ना भगाने का संकल्प जनता से भी जुड़ने की अपील

 आज दिनांक 24-05-2021 दिन सोमवार को  बजरंगदल जिला सह संयोजक हिमांशु शर्मा के नेतृत्व में


शामली नगर में वातावरण शुद्ध करने के लिए  विभिन्न सामग्री से निर्मित धूनी दी गयी । इस हवन धुनी में देशी गाय का घी , हवन सामग्री , गौकंड , गूगल , लोबान का उपयोग कर वातावरण में निमित कोरोना वायरस के बैक्टीरिया को सनातन संस्कृति के अनुरूप हवन सामग्री की धुनी से नष्ट करने का प्रयास किया गया । जिसमें शामली नगर के नो कुआ रोड - कृष्णा नगर - घेर बुखारी - पटेल नगर - काम्बोज गली - जैन मोहल्ला - बूढ़ा बाबू - मोहल्ला बरखंडी में हवन धुनी दी गयी। जिसमे बजरंगदल विभाग संयोजक विशाल निर्वाल ने कहा की भारत के लोग हिम्मत नहीं हारेंगे, लड़ेंगे और हम सब मिलकर इस कोरोना नामक बीमारी से अवश्य जीतेंगे और बजरंग दल के कार्यकर्ता पूरे देश मे इस महामारी से लड़ने के लिए

अलग अलग प्रयासों में समाज के बीच मे लगे हुए है ओर हमेशा भारत माँ के पुत्र होने का कर्तव्य निभाते रहेगे ।कार्यक्रम में विहिप नगर सह मंत्री निखिल कुमार , नगर सह संयोजक अर्जुन गौतम , नगर छात्र प्रमुख विपिन तोमर , नगर सह विद्यार्थी प्रमुख अक्षय कुमार,प्रदीप शर्मा , प्रवीण निर्वाल , गोविंदा सैनी ,दीपक वर्मा , शुभम काम्बोज , विशाल भारती, सचिन वर्मा ,विशाल तोमर , रामनिवास सैनी , सागर काम्बोज , वैभव तायल , दीपांशु वर्मा ,अरविन्द सैनी आदि कार्यकर्ता उपस्थित रहे ।

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
क्योंकि पूरी दुनिया में कारपेट बिछाने से अच्छा है कि हम अपने पैरों में ही जूता पहन लें..