मैं मरूं तो मीलने चले आना दिल का दर्द कुछ इस तरह बयां किया एक कविता पूजा सिंह दिल्ली

 मैं मारू तो



मैं मरू तो ये गुलाब ले आना

तुम चाहो तो पूरा बगीचा बना देना

मैं मरू तो मिलने चले आना

तुम चाहो तो रोज कब्र पर हाथ फेर आना

में मरू तो थोड़े आशु बहा लेना

तुम चाहो तो पार्टी जस्न कर लेना

मैं मारू तो मेरे शरीर पर हाथ फेर लेना

तुम चाहो तो मुझे कांदा दे देना

मैं मारू तो एक फोटो ले लेना 

तुम चाहो तो DP पर miss you लिख देना

मैं मारू तो मेरे तेरवी में खाना खाने आ जाना

तुम चाहो तो सब का हाथ बटा देना


पूजा सिंह

दिल्ली // 9013113172

Popular posts
शाहपुर दबंगों की दबंगई पत्रकार को दौड़ाकर पीटा कानून व्यवस्था पर सवाल मेहरबान खान
Image
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
खतौली सीओ गली के गुंडे जैसे मतदाताओं को गाली गलौज करते हुए चुनाव आयोग ले संज्ञान मतदाता को भी करानी चाहिए सीओ के खिलाफ f.i.r.
Image
दिल्ली पुलिस की सराहनीय कार्रवाई बस लुट मे शामिल तीन लुटेरों को धर दबोचा
Image
दिल्ली पुलिसAATS पूर्वी जिला टीम को बड़ी सफलता शातिर अपराधियों को रंगे हाथों दबोचा
Image