कानपुर भीषण सड़क हादसा इंजीनियर दो बेटियों सहित पिता की मौत मेहरबान खान

 *फतेहपुर में भीषण सड़क हादसा* 



*कानपुर के इंजीनियर व दो बेटियों व पिता की मौत*


*प्रतापगढ़ से कानपुर लौट रहा था परिवार, दो गंभीर*


*कानपुर प्रयागराज हाइवे पर कंटेनर में पीछे घुसी कार*



कानपुर-प्रयागराज हाइवे पर खागा कोतवाली के आधारपुर के पास शनिवार सुबह तेज रफ्तार कार कंटेनर के पीछे घुस गई। हादसे में कानपुर में रेलवे इंजीनियर अमर सिंह और उनकी दो बेटियों समेत चार लोगों की मौत हो गई। इंजीनियर की पत्नी व डेढ़ साल का बेटा गंभीर रूप से घायल हो गए।



बिंदकी कोतवाली के झावनखेड़ा मजरे सेलावन के मूल निवासी अमर सिंह रेवले में इंजीनियर थे और उनकी तैनाती कानपुर में थी। वह कानपुर में चुंगी, चकेरी के पास परिवार के साथ रहते थे। उनकी पत्नी नीलम वर्मा प्रतापगढ़ में शिक्षिका हैं। बताते हैं कि अमर सिंह, अपनी दो बेटियों तनन्या, तन्नो, पत्नी नीलम, डेढ़ के साल बेटे और पिता रामकिशोर के साथ प्रतापगढ़ गए थे। शनिवार सुबह कार से परिवार कानपुर के लिए लौट रहा था। बताते हैं कि कार इंजीनियर की पत्नी ड्राइव कर रही थी। जैसे ही यह लोग खागा कोतवाली के आधारपुर मोड़ के पास पहुंचे, तभी तेज रफ्तार कार अनियंत्रित होकर सामने जा रहे कंटेनर में पीछे से घुस गई। हादसा होते ही आसपास के लोग मौके पर पहुंच गए और पुलिस को सूचना दी। तब तक अमर सिंह, उसकी बेटी तनन्या, तन्नों की मौके पर ही मौत गई। नीलम वर्मा और इंजीनियर के पिता रामकिशोर को सीएचसी पहुंचाया गया, जहां से रामकिशोर को नाजुक हालत में रेफर कर दिया। जिला अस्पताल ले जाते समय उनकी भी मौत हो गई। शिक्षिका नीलम वर्मा का सीएचसी में इलाज किया जा रहा है। मासूम को हल्की चोटें आई हैं। सीओ खागा गया प्रसाद मिश्रा के अनुसार जांच में पता चला है कि तेज रफ्तार कार के कंटेनर में पीछे घुसने से हादसा हुआ। कार को महिला ड्राइव कर रही थी।

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
भ्रष्टाचार के विरुद्ध दुनिया का सबसे लंबा धरना मास्टर विजय सिंह महान युवा अब बूढ़ा हो चला थक गई आंखें इंतजार करते क्या कभी यह इंतजार खत्म होगा कोई ईमानदार शासक आएगा इस महान चेतन पर दृष्टिपात करेगा
Image
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
कैराना कलस्यन खाप भवन भाजपा गांव चलो अभियान की समीक्षा करते स्थानीय नेता एवं कार्यकर्ता
Image
कर्मशील भारतीके नाटक क्रांति सूर्य ज्योतिराव फुले पर नंदलेश ने की परिचर्चा गोष्ठी
Image