बचपन की यादें मुझे फिर से बचपन में जाना है एक कविता पूजा सिंह दिल्ली

 मुझे फिर से बचपन में जाना है



वो मोमबत्ती के आगे बैठ

परछाई के साथ खेल खेला करती थी मैं

मुझे फिर से उसी खेल में जाना है


वो पार्क में बैठ झूले का इंतजार किया करती थीं मैं

मुझे फिर से उसी झूले में जाना है


वो फूलों को कर नाखूनों में लगाया करती थी में

मुझे फिर से उसी बचपन में जाना हैं


वो पापा के आने से पहले पढ़ने बैठ जाया करती थीं मैं

मुझे फिर से उसी बचपन में जाना है


मेरा बचपन लौट नहीं सकता

मुझे तेरे को सब बताना हैं


खुशियों के ख्वाबों में

मुझे फिर से झूले में झूलना हैं

मुझे फिर से उसी बचपन में जाना हैं



पूजा सिंह

दिल्ली

Popular posts
शाहपुर दबंगों की दबंगई पत्रकार को दौड़ाकर पीटा कानून व्यवस्था पर सवाल मेहरबान खान
Image
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
खतौली सीओ गली के गुंडे जैसे मतदाताओं को गाली गलौज करते हुए चुनाव आयोग ले संज्ञान मतदाता को भी करानी चाहिए सीओ के खिलाफ f.i.r.
Image
दिल्ली पुलिस की सराहनीय कार्रवाई बस लुट मे शामिल तीन लुटेरों को धर दबोचा
Image
दिल्ली पुलिसAATS पूर्वी जिला टीम को बड़ी सफलता शातिर अपराधियों को रंगे हाथों दबोचा
Image