रालोद शामली सीट बिजेंदर या प्रसन्न प्रसंता ही जीत का बीज है

शामली सीट रालोद मैं कशमकश जारी विधायक टिकट पाने वालों की लंबी कतार हे

बात शामली सीट पर करें तो यहां पर दर्जनो नेता टिकट पाने को एड़ी चोटी का जोर लगाए हुए हैं यह सीट जाट बाहुल्य है इस सीट पर सबसे ज्यादा जाट मतदाता 80 हजार से भी अधिक है दूसरा स्थान मुसलमान 65000 के ऊपर है टिकट पाने के इच्छुक नेता बहुत है परंतु मुख्य रूप से प्रसन्न चौधरी राजेश्वर बंसल बिजेंदर मलिक का नाम प्रमुखता से लिया जा रहा है इस सीट पर जाट और मुसलमान दोनों डेढ़ लाख वोटों के साथ 3 लाख कुल मतदाताओ के 50 परसेंट  निर्णायक स्थिति में है अब रालोद हाईकमान को यह देखना है अगर राजेश्वर बंसल को टिकट दिया जाता है इससे वोट के रूप में कुछ लाभ होने वाला नहीं है हजार से 1500 वोट भी बनिया बिरादरी के लेने की स्थिति में नहीं है दूसरी बात दो टिकट जिले के मुसलमानों पर चले गए हैं जाट बाहुल्य जिला होते हुए भी जाट को टिकट ना मिलना जाट की नाराजगी भी झेलनी पड़ सकती है जिसका परिणाम तीनों सीटों पर गलत हो सकता है और भारतीय जनता पार्टी की तरफ जाटों का रुझान हो सकता है अब जाट शामली सीट पर दो मुख्य जाट दावेदार प्रशन चौधरी और विजेंद्र मलिक दोनों ही दावेदार ठीक छवि के हैं परंतु चुनाव में छवि के साथ आर्थिक रूप से भी कैंडिडेट का मजबूत होना जरूरी है हमें जो कहना था कह दिया आगे जयंत चौधरी की मर्जी वह मित्रता को महत्व देंगे या जाट मतदाताओं को