कविता गांवो की मिट्टी लेखिका नूतन राय महाराष्ट्र

 कविता



शीर्षक  गाँव की मिट्टी


लेखिका नूतन राय महाराष्ट्र 


बहुत याद आती है हमको अपने गाँव की माटी 

गाय के गोबर के उपले पर बनी वो चोखा बाटी ।


वो सखीया वो खेल खिलौने वो सावन के झूले

बचपन की वो प्यारी बातें भूले से ना भूले।


सावन भादो के मौसम में खेतों की हरियाली

 नहीं भूलती हमको वो बातें सभी निराली।


 मुझे नाज है की मैंने उस माटी में है जन्म लिया जिसकी गोद में गंगा खेले श्री राम कृष्ण ने जन्म लिया।


 रोजी-रोटी के चक्कर में हम अपने गाँव से दूर हुए 

बड़े से घर को छोड़कर एक कमरे में रहने को मजबूर हुए।


 ना भूले हैं ना भूलेंगे गाँव की सारी बातों को।

 वो सावन के झूले वो दिवाली की रातों को।


 हम रहते हैं शहरों में पर गांव हमारा हमारे अंदर है ।

याद हमें हर पल आता वो गांँव का सारा मंजर है।


 फागुन में सरसों के फूल जब खेतों में खिल जाता है 

चना मटर गन्ने का रस हमें याद अभी भी आता है।


 गांव के मेले दुर्गा पूजा याद बहुत सब आता है सच कहते हैं गांँव हमारा हमको बहुत ही भाता है।

स्वरचित व मौलिक रचना

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
भ्रष्टाचार के विरुद्ध दुनिया का सबसे लंबा धरना मास्टर विजय सिंह महान युवा अब बूढ़ा हो चला थक गई आंखें इंतजार करते क्या कभी यह इंतजार खत्म होगा कोई ईमानदार शासक आएगा इस महान चेतन पर दृष्टिपात करेगा
Image
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
कैराना कलस्यन खाप भवन भाजपा गांव चलो अभियान की समीक्षा करते स्थानीय नेता एवं कार्यकर्ता
Image
कर्मशील भारतीके नाटक क्रांति सूर्य ज्योतिराव फुले पर नंदलेश ने की परिचर्चा गोष्ठी
Image