दुखद ब्रेन हेमरेज के कारण यूक्रेन में एक ओर भारतीय छात्र की मौत

 यूक्रेन में एक और भारतीय छात्र की मौत, MBBS कर रहा था चंदन जिंदल, पिता अब भी युद्धक्षेत्र में फंसे



भोपाल। रूस व यूक्रेन में जारी युद्ध में एक और भारतीय छात्र की मौत हो गई है. पंजाब के बरनाला के रहने वाले चंदन जिंदल ने दम तोड़ दिया बरनाला के रहने वाले चंदन जिंदल के पिता अभी भी यूक्रेन में फंसे हुए हैं. चंदन वहां (यूक्रेन में) बीमार था और आईसीयू में भर्ती था. बीमार बेटे की देखरेख के लिए उसके पिता कुछ दिनों पहले ही यूक्रेन गए थे.


ब्रेन हैमरेज का शिकार हुआ चंदन


यूक्रेन में एमबीबीएस 4 ईयर का छात्र चंदन वहां पढ़ाई कर रहा था. 2 फरवरी को उसे हार्ट अटैक आया था. इसी दौरान वह ब्रैन हैमरेज का शिकार हो गया. डॉक्टरों ने उसका ऑपरेशन भी किया था लेकिन ऑपरेशन के बाद वह कोमा में चला गया था. 2 मार्च को उसने दम तोड़ दिया. चंदन के बीमार होने की खबर मिलते ही 7 फरवरी को उसके पिता शीशन कुमार जिंदल और ताऊजी कृष्ण कुमार जिंदल यूक्रेन गए थे. कुछ दिन बाद तायाजी तो लौट आए थे लेकिन चंदन के पिता अभी भी वहां फंसे हुए हैं.


परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल


दो मार्च को चंदन जिंदल के निधन खबर सुनने के बाद उसके परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल हो गया है. बरनाला में जिला प्रबंधकीय परिसर के सामने गली में रहने वाले चंदन जिदल की मां किरण जिंदल और बहन रशिमा जिंदल के आंसू नहीं रुक रहे हैं. बरनाला शहर में भी माहौल गमगीन है. परिजनों और शहर की समाजसेवी संस्थाओं ने केंद्र सरकार से मांग की है कि मृतक की देह और वहां फंसे उसके पिता की सकुशल भारत वापसी के प्रयास तेज किए जाएं।

Popular posts
चार मिले 64 खिले 20 रहे कर जोड प्रेमी सज्जन जब मिले खिल गऐ सात करोड़ यह दोहा एक ज्ञानवर्धक पहेली है इसे समझने के लिए पूरा पढ़ें देखें इसका मतलब क्या है
एक वैध की सत्य कहानी पर आधारित जो कुदरत पर भरोसा करता है वह कुदरत उसे कभी निराश नहीं होने देता मेहरबान खान कांधला द्वारा भगवान पर भरोसा कहानी जरूर पढ़ें
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सभी जिला अधिकारियों के व्हाट्सएप नंबर दिए जा रहे हैं जिस पर अपने सीधी शिकायत की जा सकती है देवेंद्र चौहान
मत चूको चौहान*पृथ्वीराज चौहान की अंतिम क्षणों में जो गौरव गाथा लिखी थी उसे बता रहे हैं एक लेख के द्वारा मोहम्मद गौरी को कैसे मारा था बसंत पंचमी वाले दिन पढ़े जरूर वीर शिरोमणि पृथ्वीराज चौहान वसन्त पंचमी का शौर्य *चार बांस, चौबीस गज, अंगुल अष्ठ प्रमाण!* *ता उपर सुल्तान है, चूको मत चौहान
Image
क्योंकि पूरी दुनिया में कारपेट बिछाने से अच्छा है कि हम अपने पैरों में ही जूता पहन लें..